चिड़िया और किसान की कहानी | New Chidiya aur Kisan ki Kahani

आज हम देखेंगे चिड़िया और किसान की कहानी। आशा है, आपको आज की हमारी यह कहानी पसन्द आएगी, और इससे कुछ सीखने को मिलेगा।


चिड़िया और किसान की कहानी


चिड़िया और किसान की कहानी


एक जंगल मे एक चिड़िया रहती थी, जिसका नाम मिनी था। मिनी बहुत ही प्यारी और सबसे मिल जुलकर खुशी ख़ुशी रहती थी। उसका घर एक किसान के खेत के एक पेड़ पर था।

मिनी किसान को भी बहुत अच्छा मानती थी, किसान भी मिनी को बेहद अच्छा मानता था, चिड़िया को मिनी नाम किसान ने ही दिया था। किसान रोजाना जब भी खेत आता, मिनी के लिए एक मुट्ठी गेहूं या चावल के दाने लाता था। 

किसान जैसे ही मिनी को बुलाता, वह खाना खाने के लिए उसके पास आ जाती और खाना खाकर किसान को बहुत परेशानी करती थी, कभी उसके सर पर बैठ जाती, तो कभी उसके पीछे पीछे उड़ने लग जाती।

यही कारण था, की किसान उसे बहुत अच्छा मानता था, गर्मियों के दिन थे, किसान की गेहूं की फसल कटने को तैयार थी, इसी वजह से किसान अब चिड़िया पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पा रहा था, वह जल्दी बाज़ी में चिड़िया के लिए खाना ले जाना भी भूल जाता था।

कुछ समय बाद एक दिन चिड़िया बेहद बीमार पड़ गयी, जब किसान ने चिड़िया को खाना खाने के लिए बुलाया, तो मिनी नहीं आयी। किसान परेशान हो गया,

और मिनी के घोंसले में जब उसने देखा, तो मिनी की हालत बहुत खराब थी, किसान घबरा गया, और मिनी को पशु चिकित्सालय ले गया।

चिकित्सालय में डॉक्टर्स भी देखकर हैरान हो गया, क्योकि कोई चिड़िया को पहली बार कोई अस्पताल लाया था। उन्होने मिनी के लिए दवाई किसान को दी,

किसान मिनी को अपने घर ले आया, और उसके लिए अपने घर के एक पेड़ में ही घोसला बनाया, कुछ ही दिन में मिनी ठीक हो गयी, और फिर से किसान के साथ खेलने लगी।


सीख | चिड़िया और किसान की कहानी– हमे हमेशा बेजुबान जानवरों और पक्षियों से सहानुभूति दिखानी चहिये, किसी मासूम की जान हमारी सूझ बूझ से बच सकती है।

Also Read : सोने की कुल्हाड़ी


Conclusion


आज अपने पढ़ी चिड़िया और किसान की कहानी। आशा करते हैं, आपको आज की हमारी यह Chidiya aur Kisan ki Kahani कहानी पसन्द आयी होगी, और इससे कुछ नया सीखने को मिला होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *