Great Lion and Mouse Story in Hindi | Sher aur Chuha ki Kahani

पढ़िये यह प्रेरणादायक कहानी Lion and Mouse Story in Hindi. आशा करते हैं, आपको आज की हमारी यह Sher aur Chuha ki Kahani पसन्द आएगी। और इससे कुछ नया सीखने को भी मिलेगा।


lion and mouse story in hindi


Lion and Mouse Story in Hindi


” शेर और चूहा “


एक बार गर्मी के दिनों जंगल में भीषण गर्मी पड़ रही थी। जंगल का राजा शेर पेड़ की छांव में आराम कर रहा था।

वहीं पास में पेड़ के नीचे चूहे का बिल था । चूहे को भी अपने बिल में बहुत गर्मी लग रही थी वह बिल से बाहर आ गया।

   बाहर आते ही उसने देखा कि, एक शेर उसके बिल के पास सोया है,  उसने सोचा यह मुझे मारने आया है, वह डर के मारे इधर-उधर भागने लगा।

उसकी दौड़ने की आवाज से शेर की नींद टूट गयी और वह जग गया। उसे चूहे को देख बहुत गुस्सा आया। जैसे ही चूहा दौड़ते हुए शेर के पास पहुंचा ,

शेर ने उसे अपने पंजों में धर दबोचा। बेचारा चूहा डर के मारे कांपने लगा। चिं चिं करते हुए उसने शेर से कहा, “हे जंगल के राजा! कृपया मुझे माफ़ कर दीजिए।

मुझ पर दया कीजिए। मुझे छोड़ दीजिए।”

    शेर को उसकी नींद टूट जाने पर बहुत गुस्सा आ रहा था। लेकिन चूहा छोटा सा था, वह बहुत प्यारा था। उसकी बातें सुनकर शेर को उस पर दया आ गयी।

शेर ने उसे माफ कर दिया औऱ छोड़ दिया। अब चूहे को उससे डर नहीं लग रहा था।

तभी चुहे ने उसका मन खुश करने के लिए, उसे चुटकुले सुनाया। शेर को हँसी नहीं आई। वह शेर को हंसाने के लिए उसे गुदगुदी करने लगा।

थोड़ी ही देर में चूहे के पैरों से शेर के शरीर में गुदगुदी होने लगी, वह जोर जोर से हंसने लगा। चूहे को बहुत खुशी हुई।

चूहे ने कहा , ”तुमने मुझे जीवन दान दिया, मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूँ।”

  तब शेर ने उससे कहा, ” तुम इतने छोटे से हो, तुम मेरे लिए क्या करोगे! तुम्हें खाने से तो मेरा पेट भी नहीं भरेगा।”  वह फिर हंसने लगा।

   चूहा बोला, ” कोई बात नहीं। तो मैं आपका दोस्त तो बन ही सकता हूँ। चलो आज से हम दोनों दोस्त!!”

 शेर ने कहा ठीक है।

    अब चूहा अपने बिल में चले गया। शेर भी अपनी गुफा में चले गया।

अगले दिन चूहा खुद शेर की गुफा में उससे मिलने चला गया। वह रोज उससे मिलता और उसे खूब हंसाता। शेर भी चूहे को अब अच्छा मानने लग गया।


rat and lion story in hindi


Main part of Lion and the Mouse story in Hindi- एक बार शेर शिकार की तलाश में इधर उधर घूम रहा था। तभी वह एक शिकारी के जाल में फंस गया।

उसने अपने आपको छुड़ाने की बहुत कोशिश की।

लेकिन वह बाहर नहीं आ पा रहा था, उसने उस जाल से छुटने की उम्मीद ही छोड़ दी। वह जोर जोर से दहाड़ कर रोने लगा।

      उसकी दहाड़ पूरे जंगल मे गूँजने लगी। उसकी आवाज चूहे ने सुनी।  वह समझ गया कि मेरा दोस्त शेर किसी खतरे में है। वह जल्द से शेर को जंगल मे ढूंढने लगा।

तभी उसे शेर जाल में फंसा दिखा। वह जल्द से उसके पास पहुंचा। शेर को चूहे को देख थोड़ी हिम्मत मिली।

   चूहे ने कहा, ” दोस्त मैंने कहा था न, कि मैं तुम्हारे कभी भी काम आ सकता हूँ और मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूं।”

चूहे ने फटाफट से उसकी जाल अपने नुकीली दांतों से कुतर दी। चूहे ने शेर को आजाद कर दिया। शेर ने उसको धन्यवाद दिया और कहा,

” मैं ने सोचा था तुम मेरे किसी काम के नहीं हो, मुझे माफ़ कर दो तुमने आज मेरी जान बचाई है। मैं तुम्हारा बहुत आभारी हूँ।”

शेर बहुत खुश हुआ और उसको अपनी पीठ पर बैठा कर उसके साथ नाचने लगा, फिर दोनों खुशी खुशी अपने घर चले गये।


Moral of Lion and Mouse story in Hindi:- “किसी को भी छोटा या कम नहीं समझना चाहिए। कोई भी, कभी भी हमारी किसी तरह भी सहायता कर सकता है।”

Also Check : Best Tenali Ram Stories


Story Like lion and rat story


” गजराज और मूषकराज “


      बहुत समय पहले एक नदी के किनारे एक शहर बसा था। वहां व्यापार हुआ करता था।

एक बार वहां अचानक बहुत वर्षा हुई। नगर में बाढ़ की स्थिति पैदा हो गयी। नदी ने भी अपना रास्ता बदल लिया।

  लोगो के पास अब पीने का पानी नहीं रहा। देखते-देखते सब लोग वहां से चले गए और वो शहर वीरान हो गया।

अब नगर में बहुत सारे चूहे पनपने लगे। वहां चूहों की संख्या बहुत ज्यादा हो गई थी, तो चूहों ने मिलकर अपना एक मुखिया बनाया उसका नाम रखा गया मूषकराज।

और चूहों का भाग्य तो तब चमका जब एक पानी का स्रोत उस खंडहर में फूटा और वहाँ एक बड़ा सा जलाशय बन गया। सभी चूहे बहुत ही खुश हुए।

    वहीं पास के जंगल में सैकड़ों हाथी और अन्य जीव रहा करते थे। हाथियों का सरदार था गजराज। वह एक बहुत ही बड़ा और विशाल हाथी था।

उस जंगल में भयानक सूखा पड़ा। सभी जीव जंतु पानी की तलाश में इधर उधर भटक रहे थी।

  हाथियों के बच्चे प्यास से मरते जा रहे थे । गजराज बहुत ही चिंतित था।

तभी एक दिन गजराज की मित्र कोयल ने गजराज को खंडहर बने नगर के बारे में बताया कि वहां एक पानी का जलाशय है।

गजराज अपने सभी हाथियों को पानी पीने के लिए वहाँ ले गए। सभी हाथी अपना भारी भरकम शरीर लेकर धीरे-धीरे उस जलाशय तक पहुंचे।

रस्ते में बहुत सारे चूहे उनके भारी भारी वजन के नीचे आकर कुचल गए, और मर गए। हाथी उनको रौंदते हुए आगे बढ़ गए।

सभी हाथियों ने अपनी प्यास बुझाई और जंगल की ओर जाने लगे। जंगल को जाते समय भी अनेकों चूहे उनके पैरों के शिकार हो गए।

नगर की सभी सड़कें चूहों के खून से लतपत हो गईं और सब जगह कीचड़ ही कीचड़ हो गया।

अब हाथी रोज उसी जगह पानी पीने आते और कई चूहों को मौत के घाट उतरना पड़ता।

    मूषकराज इस बात से बहुत परेशान थे। उन्होंने गजराज से मिलकर इस समस्या का कोई समाधान निकालने का सोचा। मूषकराज को एक चूहे ने बताया कि गजराज बहुत दयालू हैं। वह आपकी बात जरूर सुनेंगे।

     मूषकराज अगले ही दिन जंगल गजराज से मिलने पहुंच गए। जंगल में प्रवेश करते ही, उसने देखा कि एक बड़ा सा हाथी एक पेड़ के नीचे खड़ा है, मूषकराज को पता चल गया कि यही गजराज हैं।

वह गजराज के पास गया और विनती करने लगा, –

   ” गजराज को मूषकराज का प्रणाम! मुझे आपसे एक निवेदन करना है!  आपके हाथी रोज हमारे जलाशय में आते हैं और रोज हमारे कई चूहे उनके पैरों के नीचे आने से मर जाते हैं।

ऐसे तो हमारी प्रजाति नष्ट हो जाएगी। कृपा करके आप कुछ उपाय निकालें।”

गजराज ने उसकी बात सुनी। वह बहुत दुखी हुआ, उसने कहा, ” हे मूषकराज ! हमें यह ज्ञात नहीं था। अब आगे से ऐसा नहीं होगा। आप चिंता न करें।”

 मूषकराज ने कहा, ” आप धन्य हैं जो मुझ जैसे छोटे जीव की बात अपने सुनी। मैं कभी भी आपके काम आऊं तो मुझे बहुत खुशी होगी। आप मुझे बताइयेगा।” यह कहकर वह अपने नगर चला गया।

    कुछ दिनों बाद एक राजा द्वारा अपनी सेना में हाथियों की भर्ती होने लगी। राजा के सैनिक उस ही जंगल से हाथियों को पकड़ कर राज्य में ले जाने लगे।

सैनिकों ने जंगल में जगह जगह जाल बिछा दिए। सैकड़ों हाथी पकड़ लिए गए।

Intrusting part of this story like Lion and Rat story- एक रात हाथियों को पकड़े जाने से चिंतित गजराज जंगल मे यूं ही घूम रहे थे,

कि उनका पैर सूखी पत्तयों के नीचे बिछाए गए जाल में पड़ा। और वे फंस गए। गजराज चिंघाड़ने लगे ,

और अपने साथियों को पुकारा। कोई उसकी मदद के लिए नहीं आया।

लेकिन एक युवा जंगली भैंस उसका बहुत आदर करता था। जब वह भैस छोटा था तो गजराज ने उसे गड्ढे में गिरने से बचाया था। वह गजराज के लिए कुछ भी करने को तैयार था।

वह गजराज की आवज सुनकर फौरन उधर पहुंच गया। उसने बहुत कोशिश की पर गजराज को वह जाल से नहीं छुटा पाया। अब गजराज भी हिम्मत हार चुके था।

    उसने भैंस से कहा, “बेटा तुम बस जाकर खंडहर नगरी से मूषकराज को बुला लाओ। उससे कहना कि मेरी आस अब टूट चुकी है।”

भैंसा जी-जान से दौड़कर मूषकराज के पास पहुंचा। उसने मूषक को सारा खेल बताया। मुषकराज तुरन्त अपने 40-50 चूहों के साथ भैंस की पीठ पर बैठ गए। भैंस जल्द से उन सभी को गजराज के पास ले आया।

     सभी चूहे और मूषकराज भैंस की पीठ से सीधे जाल पर कूद पड़े। उन्होंने जाल को कुतरना शुरू किया। थोड़ी ही देर में गजराज आजाद हो गया।

गजराज और भैसे ने उन सभी चूहों को  धन्यवाद ज्ञापित किया। अब सभी हाथी और चूहे अच्छे मित्र बन गए।


Moral of this story like Lion and Rat story in hindi : ” आपसी भाईचारा, और प्रेम सर्वदा एक दूसरे के कष्टों को हर लेता है।”

Also Check : Unique Moral Stories Collection

Also Check : Thirsty Crow Story


Story Like Sher aur Chuha ki Kahani


” मधुमक्खी और कबूतर “


  एक बार एक नदी के किनारे, एक पेड़ था। जिसमें एक कबूतर रहा करता था।

      एक बार एक मधुमक्खी उस नदी के ऊपर से उड़ती हुई जा रही थी। अचानक वह तेज हवा के झोखे के कारण नदी में गिर गयी।

नदी में गिरने के कारण उसके पंख गीले हो गए। अब वह उड़ नहीं सकती थी। उसने मन में सोचा अब मेरी मृत्यु निश्चित है।

उस पेड़ से कबूतर यह सब देख रहा था। उसने देखा कि मधुमक्खी पानी में डूब रही है, वह उसकी जान बचाना चाहता था।

   कबूतर ने अपनी चोंच की सहायता से, पेड़ से एक पत्ता तोड़ा और उस पत्ते को मधुमक्खी के पास फेंक दिया।

मधुमक्खी धीरे धीरे करके उस पत्ते पर चढ़ गई और थोड़ी देर उसमें बैठने के बाद उसके पंख भी सुख गए। अब वह उड़ने में सक्षम थी।

  वह उड़कर कबूतर के पास गई और उसको धन्यवाद दिया।फिर वह उड़कर कहीं दूर अपने घर चले गए।

        दिन बीते। एक दिन मधुमक्खी दूर अपनी रिश्तेदार के घर जा रही थी, रस्ते में उसे वही पेड़ दिखा जहां वो कबूतर रहता था। उसने सोचा, “क्यों न मैं कबूतर से मिलकर चलूँ उसने मेरी जान बचाई है।”

 वह कबूतर से मिलने गयी, उसका हाल-समाचार पुछा और अपने रिश्तेदार की घर की ओर रवाना हो गयी।

Intrusting part of this story like Sher aur Chuha ki Kahani- एक दिन कबूतर पर संकट आ गया। कबूतर आराम से पेड़ पर सोया था कि एक बच्चे की नजर उस पर पड़ी।

बच्चा कबूतर को मार देना चाहता था। उसने अपनी गुलेल पकड़ी और कबूतर पर निशाना लगाने लगा।

  संजोग से उसी दिन मधुमक्खी अपने रिश्तेदार के वहाँ से वापस अपने घर लौट रही थी। जैसे ही वह उड़कर नदी पार करके पेड़ के ऊपर से गुजर रही थी तो,

उसकी नजर उस बच्चे पर पड़ी।उसने देखा कि वह कबूतर पे निशाना लगाए हुए है।

     मधुमक्खी ने झट से जा कर उसके हाथ में डंक मार दिया। बच्चा जोर जोर से रोने लगा। बच्चे की रोने की आवाज सुनकर कबूतर जग गया। उसने जमीन पर पड़ी गुलेल देखी वह पूरा माजरा समझ गया।

   बच्चा रोते बिलखते हुए अपने घर चला गया। कबूतर ने मधुमक्खी को धन्यवाद कहा।

और तब से वे दोनों अच्छे दोस्त बन गए।


★ Moral of this story like Lion and Mouse story in hindi :- सभी को संकट के समय एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। यही सदाचार है।”

Also Check : Great Alibaba Chalis Chor Story


Story like Mouse and Lion Story in Hindi


” मूर्ख बन्दर ”


     बहुत समय पहले , एक बार किसी राजा के महल में एक बन्दर सेवक के रुप में कार्य किया करता था। वह राजा का बहुत बड़ा भक्त था। राजा उस पर बहुत ही विश्वास किया करते थे।

वह पूरे राज्य में और महल में कहीं भी, कभी भी बिना किसी रोक टोक के जा सकता था।

बन्दर को सभी अच्छा मानते थे , कोई उससे कभी कुछ कहता नहीं था।असल मे वह बहुत ही मूर्ख था।

   एक दिन जब राजा सो रहा था तो, बन्दर उसके लिए पंखा चला रहा था। एकदम से एक मक्खी कहीं से उड़कर वहां आ गयी और राजा की छाती पर भिनभिनाने लगी।

Intrusting part of this story like Lion and Rat story in hindi- बन्दर बहुत परेशान हो गया। उसने कई बार मक्खी को वहाँ से हटाना चाहा पर वो हटने का नाम ही नहीं ले रही थी।

   बन्दर को क्रोध आ गया। उसने पंखा छोड़कर हाथ में तलवार उठा ली। और इस बार उसने मक्खी के ऊपर पूरा जोर लगते हुए तलवार से वार किया।

मक्खी तुरन्त वहां से उड़ गई। लेकिन राजा की छाती पर तलवार के प्रहार से राजा के दो टुकड़े हो गए।

राजा मर गया।

बन्दर को कारगार में डाल दिया गया।


★ Moral of this story like Sher aur Chuha ki Kahani :- मूर्ख लोगों के साथ और दोस्ती से बेहतर बुद्धिमान लोगो की दुश्मनी होती है।

Also Check : Best Moral Stories Collection


Story like Lion and Rat Story in Hindi


” सियार और शेर “


     सालों पहले, जंगल की एक गुफा में एक बलशाली शेर रहता था। एक दिन वह एक मोटे तगड़े बैल का शिकार करके लाया। उसने पूरा बैल खा लिया।

वह अपनी गुफा की ओर लौट रहा था। उसको शिकार करते हुए एक सियार ने देख लिया था। तो वह शेर के सामने आया।

      सियार ने शेर को प्रणाम किया। जब शेर ने उससे ऐसा करने का कारण पूछा तो उसने कहा, “सरकार! मुझे अपना सेवक बना लीजिए। मैं आपकी शरण में आना चाहता हूँ।

मैं आपकी सेवा करना चाहता हूं और जो भी आप शिकार से कचरा फेंक देंगे मैं उसी से अपना गुजारा कर लूंगा।”

शेर ने उसकी बात मान ली और उसे मित्र के तौर पर अपने साथ रख लिया।

कुछ ही दिनों में शेर द्वारा छोड़े गए शिकार को खा-खा कर वह बहुत मोटा हो गया।  रोज शेर की वीरता और पराक्रम को देख देखकर उसने भी खुद को शेर का जैसा ही समझ लिया।

Intrusting part of this story like the Lion and the Mouse story in hindi- तो एक दिन उसने शेर से कहा, ” अरे शेर! मैं भी अब तुम्हारी तरह ही शक्तिशाली हो गया हूँ।

आज मैं एक हाथी का शिकार करने वाला हूँ। तुम बस देखते जाओ।

लेकिन आज मैं तुम्हें मेरा छोड़ा हुआ भाग खाने में दूंगा और तुम्हें वही खाना होगा। “

  शेर ने उसको दोस्त समझकर उसकी बातों का बुरा नहीं माना , लेकिन उसको यह पता चल गया था कि यह लालची औऱ घमण्डी हो गया है। उसने उसे ऐसा करने से मना किया। सियार नहीं माना। वह चल दिया।

   वह पहाड़ की सबसे ऊंची चोटी पर गया और सब जगह शिकार देखने लगा। तभी उसे पहाड़ के नीचे ही एक हाथियों का झुंड दिखाई दिया।

उन्हें देख वह खुशी से फूला नहीं समा रहा था। उसने फिर सिंहनाद की तरह 3 बार अपनी आवज लगाई।

 और वह पहाड़ से कूद पड़ा। किसी भी हाथी के ऊपर कूदने की बजाय वह हाथियों के पैरों के नीचे जा गिरा। हाथी तो मस्त होकर चल रहे थे,

तो उनको वह सियार दिखाई नहीं दिया। एक हाथी ने अपना पैर उसके सर के ऊपर रख दिया। उसके सर का कचुम्बर निकल गया और वह उसी समय मर गया।

     ऊंची पहाड़ की चोटी पर खड़ा शेर यह सब देख रहा था। उसने मन में कहा, ” इसके साथ ऐसा ही होना था।”


★ Moral of this story like Lion and Rat story in Hindi :- ” घमण्ड और मूर्खता का साथ बहुत गहरा होता है। ये दोनों कारक अधिक होने पर ले डूबते हैं। अतः कभी भी घमण्ड नही करना चाहिए।”

Also Check : Rabbit and Tortoise Story


Conclusion


आज आपने पढ़ी Lion and Mouse Story in Hindi. जिससे आप एंटरटेन भी हुए होंगे, और आपको बहुत कुछ सीखने को भी मिला होगा।

तो इसी आशा के साथ विदा होते हैं, आपसे। Sher aur Chuha ki Kahani जैसी रोचक और जानकारीपूर्ण कहानियां पढ़ने के लिए,

चेकआउट कीजिये, हमारी प्लेलिस्ट और बने रहिये sarkaariexam library के साथ।

thanks…!

Leave a Reply

Your email address will not be published.