151+ Great Motivational Poems in Hindi | Inspirational Poems प्रेरक कविताएं

जीवन मे प्रेरणा देने वाली Motivational Poems in Hindi. आशा करते हैं इन कविताओं से आपको प्रेरक सीखों के साथ साथ बहुत कुछ नया सींखने को मिलेगा।

151+ जीवन को सही राह दिखाने वाली Motivational Poems. तो चलिए शुरू करते हैं प्रेरक कविताएं ,-


Motivational Poems in Hindi


Motivational Poems in Hindi


मंजिल


motivational poem in hindi

राह में मुश्किल होगी हजार तुम,
दो कदम बढाओ तो सही ।
हो जाएगा हर सपना साकार,
तुम चलो तो सही , तुम चलो तो सही ।।

मुश्किल है पर इतना भी नहीं
कि तू कर ना सके ।
दूर है मंजिल लेकिन इतनी भी नहीं
कि तू पा ना सके ।
तुम चलो तो सही , तुम चलो तो सही

एक दिन तुम्हारा भी नाम होगा,
तुम्हारा भी सत्कार होगा
तुम कुछ लिखो तो सही ।
तुम कुछ आगे पढ़ो तो सही,
तुम चलो तो सही , तुम चलो तो सही ।

सपनों के सागर में कब तक गोते लगाते रहोगे,
तुम एक राह है चुनो तो सही ।
तुम उठो तो सही , तुम कुछ करो तो सही,
तुम चलो तो सही , तुम चलो तो सही ।

कुछ ना मिला तो कुछ सीख जाओगे,
जिंदगी का अनुभव साथ ले जाओगे
गिरते पड़ते संभल जाओगे,
फिर एक बार तुम जीत जाओगे
तुम चलो तो सही , तुम चलो तो सही ।।

Also Read : Panchtantra Stories

Also Read : Funny Moral Stories


आत्मबल


inspirational poems in hindi

छुटेंगे हाथ टूटेंगे साथ,
टूटने मत देना पर तुम विश्वास ।

टूटेंगे सपने छुटेंगे अपने,
टूटने मत देना पर तुम आस ।

आयेगें जीवन में कई कमजोर पल,
तोड़ेंगे झझोड़ेंगे , कहेंगे संग चल ।

रहना पर तुम उस पल अटल,
होगी तकदीर तभी मुटठी में दोस्त ।

जीवन न होगा कभी विफल,
आत्मबल है ऐसा कमल ।

परेशानियों की दलदल में रखे अटल – अचल,
चाहते हो गर सुनहरा कल
सहेज के रखिए आत्मबल ।

Also Read : Horror Stories

Also Read : Fairy Tales in Hindi


गिरना भी अच्छा है “


motivational kavita in hindi

गिरना भी अच्छा है ,
औकात का पता चलता है …

बढ़ते हैं जब हाथ उठाने को ….
अपनों का पता चलता है !

जिन्हे गुस्सा आता है ,
वो लोग सच्चे होते हैं ,

मैंने झूठों को अक्सर
मुस्कुराते हुए देखा है …

सीख रहा हूँ मैं भी ,
मनुष्यों को पढ़ने का हुनर ,
सुना है चेहरे पे …
किताबो से ज्यादा लिखा होता है … ! “

Also Read : Motivational Stories

Also Read : Akbar Birbal Stories


कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।


प्रेरक कविताएं

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती ,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है ,
चढ़ती दीवारों पर , बार बार फिसलती है.

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है ,
चढ़कर गिरना , गिरकर चढ़ना न अखरता है ।

आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती ,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है ,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है ।

मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में ,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में ।

मुट्ठी उसकी खाली हर एक बार नहीं होती ,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है , इसे स्वीकार करो ,
क्या कमी रह गई , देखो और सुधार करो ।

जब तक न सफल हो , नींद चैन को त्यागो तुम ,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम ।

कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती ,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ।

Also Read : Dadi maa ki Moral Kahaniyan


दोस्त अब थकने लगे है


किसीका -पेट निकल आया है ,
किसीके बाल पकने लगे है …
सब पर भारी ज़िम्मेदारी है
सबको छोटी मोटी कोई बीमारी है ।

दिनभर जो भागते दौड़ते थे ,
वो अब चलते चलते भी रुकने लगे है ।
पर ये हकीकत है ,
सब दोस्त थकने लगे है ….

किसी को लोन की फ़िक्र है ,
कहीं हेल्थ टेस्ट का ज़िक्र है ।
फुर्सत की सब को कमी है ,
आँखों में अजीब सी नमी है ।

कल जो प्यार के ख़त लिखते थे ,
आज बीमे के फार्म भरने में लगे है ।
पर ये हकीकत है सब दोस्त थकने लगे है ….


मेरी माँ – Motivational Poems in Hindi


माँ , मेरी माँ
कभी रुलाती , कभी हंसाती ,
गलती करता तो मारती रोने लगता तो सहलाती,

माँ , मेरी माँ ।
कभी रूठता तो हंसाती कभी डाटती
कभी समझाती मुझको बस दुलराती माँ ।।

अच्छे पर शाबासी देती गलत काम पर, कान खींचती
काम कराती खेल – खिलाती
माँ मेरी माँ


माँ की यादें


माँ की यादें जब – जब आती
आखें तब – तब भर हीं जाती
आंसूओं को फिर क्या समझाए ,
ये तो फिर बस बहते जाए

जब – जब होता रोज सेवेरा ,
तुझ बिन माँ कैसा जग मेरा ।
दिन के बाद जब होती शाम ,
मुझको आती तेरी फाम ( याद )

तेरी याद ऐसे आती ,
आते ही दिल को तड़पाती ।
इस दिल को कैसे समझाऊं ,
याद में तेरी लिखता जाऊं ।।

लिखते – लिखते सो मैं जाऊ ,
सपनों में फिर मैं खो जाऊँ ।
सपनों में भी तू ही आए ,
जीने की फिर राह दिखलाएं ।।

मैं तो चाहूं मिलना तुझसे ,
पर तू क्यों रूठी है मुझसे ।
गुनाह तू मेरा बता दें माँ ,
ऐसे तू तड़पा ना माँ ।।

बाद तुझे मैं पल – पल कश्ता ,
तुझे पर ही पल – पल मैं मरता
अब तो आजा मेरी माँ ,
राह तक मैं तेरी माँ ।।


सब कुछ पाया तुमसे माँ – Inspirational Poems in Hindi


मुझे अभाग्य को सौभाग्य बनाया
तुमने रोना छोड़कर मुझको हंसना सिखाया

तुमने गिर कर हर बार उठना सिखाया
तुमने भूल को माफ कर आगे बढ़ना सिखाया

तुमने अच्छे बुरे का पाठ मुझे पढ़ाया
तुमने बड़ो की सीख से आगे बड़ना सिखाया

तुमने माँ बाप से बढ़कर ने कोई भगवान पाया
हमने जो गये ढूढ़ने मंदिर में मां बाप के पास वह सुख पाया।


दामिनी की आवाज


मरी नहीं मैं जिंदा हूं ।
सफेद रंग का परिदा हूं ।
नहीं कोई मेरा ।
न नाम मेरा तुम जानो ।

मेरी आवाज को तो पहचानो ।
इंसाफ चाहिए मुझको ।
जो तुम हो दिला सकते हो ।
मैं सो गई तो क्या हुआ ?

तुम तो देश को जगा सकते हो ।
दामिनी नाम रखकर ।
इस देश में बनी मेरी पहचान ।

मैं नहीं चाहती किसी के साथ हो ।
जैसा मेरा हुआ अंजाम ।
मरी नहीं जिंदा हूँ मैं,
बस सफेद रंग का परिंदा हु मैं।


विद्यालय हमारा प्यारा


विद्यालय हमारा प्यारा
पूरे जग में सबसे न्यारा ।
अध्यापकों का ऐसा प्यार ,
बच्चों का भोला संसार ।।

पढ़ने में ध्यान लगाते ,
जो भी हमको गुरूजन पढ़ाते।
किसी से लड़ना – झगड़ना क्यों है
अभद्र कार्यों को करना क्यों है ।।

माँ पिता की आशाएं हम पर ,
जिन्हें हम पूरी करेंगे पढ़ाई के दम पर ।
पढ़ना सिर्फ एक काम हमारा ,
ऊंचा जिससे होगा नाम हमारा ।।

प्रधानाचार्य हमारे इतने अच्छे ,
मन के भोले दिल के सच्चे ।
कुछ अच्छा काम कर जाऊं मैं ,
सवको खुश कर जाऊं मैं ।।


Motivational Poem in Hindi


हमारे प्यारे गुरूजन


विषय हमारे इतने प्यारे ,
गुरूजन पढ़ाते हम को सारे ।
प्यार से जब पढ़ाते हम को ,
ध्यान लगाकर पढ़ते सारे ।।

गणित से हमको लगता डर ,
जिस डर का अंत करते धामी सर ।
हिन्दी मैडम यूं समझाती .
ये मन में जल्दी घुस जाती ।।

विज्ञान से हमको कैसा डर ,
ये तो पढ़ाते श्री किशन सर ।।
जीव विज्ञान मैडम ऐसे पढ़ाएं ,
पढ़ाया हुआ मन में बस जाएं ।

सामाजिक में तारीख इतने
अपने सिर में बाल हों जितने ।।
अंग्रेजी तो विषय है अपना ,
इसका भय , अब हमें न करना ।

क्योंकि अंग्रेजी हमको वो पढ़ाते ,
बात – बाल में जो रसीद दिखलाते ।।
प्रधानाचार्य का ऐसा साया ,
जैसे हो ईश्वर की माया ।

इस माया ने हमें जगाया ,
पढ़कर जीना जग में सिखाया ।।
ऐसे ज्ञान के सागर में पढ़ते हम ,
इसलिए अपने आप को ,
भाग्यशाली कहते हम ।।


मेरा घर Motivational Poems in Hindi


महल न सही टूटा – फूटा है पर हमारा है ।
छोड़ सकते नहीं इसको यह घर हमारा है।

इसके आंगन में हमने चलना सीखा ।
गिर – गिर कर संभलना सीखा ।
जब – जब मुझे माँ की याद आती है ।

इस आंगन में वहीं ममता झलक आती है ।
बताओ जरा छोड़ कैसे हूं उसे जो मुझे सबसे प्यारा है ।

बापू का प्यार माँ का दुलार बसा है इसमें मानता हूं
कि जिंदगी भर का कष्ट सहा है हमने पर हर वक्त माँ ने संभाला है
मुझे डूब रहा था तब पाप से उबारा है मुझे छूट गया सब ,
बस यही एक जीने का सहारा है मुझे छोड़ नहीं सकता ,
मुझे यह घर हमारा है ।


माँ का प्यार – Short Inspirational Poems in Hindi


घुटनों से रेंगते रेंगते ।
कब पैरों पर खड़ा हुआ ।

तेरी ममता की छांव में ।
जाने कब मैं बड़ा हुआ ।

काला टीका , दूध – मलाई ।
आज भी सब कुछ वैसा है ।

मैं ही मैं हूं हर जगह ।
प्यार में तेरा कैसा है ।

सीधा साधा भोला भाला ।
मैं ही सबसे अच्छा हूं कितना भी हो जाऊं बड़ा ।
माँ मैं आज भी तेरा बच्चा हूं ।


कितना अच्छा है!– Inspirational Poems in Hindi


सूर्यभान गुप्त एक – दूसरे की बेमतलब,
आज खून की प्यासी दुनिया,
बम – मिसाइलों की दीवानी,
तोपों की दासी दुनियां।

हम बच्चों से कुछ तो सीखें,
एक – साथ मिलकर कैसे रहते हैं,
कैसे हर मन के आंगन में।

प्रेम और भाई चारे के,
मंगल दीप सदा जलते हैं,
दिखाए की दीवानी दुनियां।
भूली हुई प्यार की मीठी,

मिसरी जैसी बानी दुनिया,
हम बच्चों से कुछ तो सीखें।
कट्टी करते हैं पल भर में,
बट्टी करते है पल भर में,

भेदभाव नफरत की नहीं,
जगह नहीं बचपन के घर में।
जात – पात भाषा धर्मों के,
झगड़ों से बिल्कुल अनजाने,

गाते रहते हैं हर पल हम,
मस्ती के दिन – रात तराने।
हृदय माताओं जैसे सच्चा,
धरती के मासूम फरिश्ते,

हम सब बच्चे कितने अच्छे,
विश्वशांति के बाल – गीत हम।
देवदूत हर नई सदी के।
हम से दुनिया कुछ तो सीखे,
हम सब बच्चे कितने अच्छे हैं।


मेरा भारत महान – Motivational Poem in Hindi


अंतरिक्ष में अपनी धरती धरती देशों की है
खान खानों में हीरों सा चमकता भारत देश है
एक महान इतिहास दमकता इसका स्वर्णिम

अन्य सभी और वेद – पुराण विश्वगुरू है
देश हमारा अग्नि से लेकर तीर – कमान
शून्य दशमलव दिए भारत ने विधियों के थे दिए विधान
भारत पर बुरी नजर वाले होकर रहना तू सावधान।।


भुलाऊ कैसे


भगवान सिंह करूं न याद मगर ,
किस तरह भुलाऊं उन्हें , चिता तो जल गई ,
दिल में किस तरह जलाऊं उन्हें दिल में देश –
प्रेम लिए बस गए दिलों में ,
हो गए शहीद देश के मुश्किलों में ।।

अपने घर वालों के दिलों में , आती रही याद ,
फिर भी भगवान को करते रहे धन्यवाद ।
देश के लिए किया उन्होंने सबसे बड़ा दान ,
इसलिए हर माँ को गर्व है- वीर था मेरा जवान ।

हर बेटे को गर्व है- मेरे पापा देश के जवान थे ,
देश के लिए वह वीरता की पहचान थे ।
हर जन्म देश की रक्षा के लिए पाऊं उन्हें ,
करूं न याद मगर किस तरह भुलाऊं उन्हें ।

हर जन्म फौजी बनूं , ऐसी उनको आशा थी ,
वे वीर – धीर उनकी शख्शियत ही खास थी ।
देश के लिए कुछ करने के उनके अरमान थे ,
देशवासियों के लिए , वे सच्चे भगवान थे उन देश के वीरों का ,
शब्दों में कैसे करू क्यान देश के खातिर दे दी ,

जिन्होंने अपनी अनमोल जान
ऐ – वीरो सोने – चांदी से सजाऊ तुम्हें करूं न याद ,
मगर किस तरह भुलाऊं उन्हें ।
लिख – लिखकर चिट्टियां करते रहे प्यार ,
पर नहीं – ठुकराई कभी – भी भारत माँ की पुकार ।

बलिदान उनके रहेंगे हमेशा पावन ,
समर्पित उनको मेरा – तन – मन – धन ।
वीर – धीर – साहसी किस नाम से बुलाऊ तुम्हें ,
करूं न याद , मगर किस तरह भुलाऊं उन्हें ।

दिन जिनके मुसीबतों के बीच व्यतीत हुए ,
देश के लिए कुछ करके ही शहीद हुए ।
वीर – साहसी – बलिदानी किस नाम से बुलाऊं
उन्हें करूं न याद मगर , किस तरह भुलाऊ उन्हें ।


प्रेम की बेल – Motivational Poems in Hindi


प्रेम की भारत की भूमि में भाइयों , प्रेम की बेल बोएं ।
आज तक जो भी हुआ , निश्चित अब मत सोचें ।

घर में प्रेम – प्रेम पड़ोस में , प्रेम हर गांव ग्राम में ।
प्रेम देश में प्रेम विश्व में ना रहे कोई संग्राम में ।

अगर प्रेम बेल टूटे तो , एकत्ता नहीं रहेगी ।
आपस का रिश्ता ना रहा , दुनिया क्या कहेगी ।

प्रेम की वेल सोचें और खाद भली डालें ।
बाहरी ताकतों पर चतुर नजर डालें ।

अपने – अपने को , लगे ना कलंक ।
नेकता की बाते करें , अच्छा करे संग ।

गांधी जी ने अपने कुल का , नाम रोशन किया है ।
सत्य और अहिंसा का मर्म दर्शा दिया है ।

उन गांधीवादी पुरूषों में , परोपकार का काम किया ।
कष्ट सहन करके हमें , आजादी का मार्ग दिया ।

प्रेम से एकत्ता करें रहें मेल से ।
भारत माँ का रिश्ता रखे एक प्रेम बेल से ।

ऊंच नीच का भेदभाव मन से मिटा दें ।
भात भाव का इरादा मन में बिठा लें ।


भू माता का वरदान सा – Self Motivation Poem Hindi


भूमाता तब चरणों में है मेरा ना प्रणाम ,
तेरी कोम हमारी कीडास्थली बनी अनुपम अभिराम ।
सुत सुख हेतु सभी कुछ ने सदा रहे तत्पर माता ,
कितनी ही पीसा हो फिर भी उसको कष्ट नहीं होता ।।

घरती पर स्थित नीर , मृत्तिका , पवन , वनस्पति , प्राणी भी ,
पर्वत , कानन , सागर , सरिता एवं ऊर्जा सोत सभी ।
साधन उसने सभी जुटाये मेरे ही सुख हेतु यहाँ ,
अनथक ही वह स्वयं भागती गौ को है विश्राम कहाँ ।।

हमने उपजाऊ धरती पर जमकर खूब चलाया हल ,
और प्रचुर ही शस्य रूप में पाया उत्तम पौष्टिक फल ।
माँ का था उपहार वनों का , हमने उपवन बना लिया ,
उसके अवदानों का हमने क्षमता भर उपयोग किया ।।

घरणी देह बना पत्थर का , हृदय सदा वात्सल्य भरा ,
हमने पाई खनिज सम्पदा , जीवन हुआ भरा पूरा ।
खाने खोदी भू के तल पर या खोदे अति गहरे बिल ,
वाडा आवरण मों का हमने डाला बड़े प्रेम से छिल ।।

पहाड़ तोड़े , मार्ग बनाये , बड़े बड़े विस्फोट किये ,
गों का आकर पा कर हमने निज सुख के सब कार्य किये ।
बड़ी बड़ी नदियाँ बहती हैं , हमने उनको बांध दिया ,
धैर्य , वीर्य से , मति , साहस से , बाधाओं को लांघ लिया ।।

ऊर्जा को हमने पहचाना , खोजे हमने सोत नये ,
बुद्धि ज्ञान से हमने लाये मुट्टी में सब साधन ये ।
लाखों वर्षों से धरती में जमा नीर खींचा हमने ,
बड़ी शक्ति से बड़े वेग से खेतों को सींचा अपने ।।

माता देती , हम लेते हैं , बात यहाँ तक है सब ठीक ,
सावधान पर रहना होगा , कभी न जाये लांधी लीक ।
सीमा के अन्दर ही रहना , कभी न होना उच्छंखल ,
जैसा आज रहे वैसा ही सदा समृद्ध हमारा कल ।।


हरियाली – Motivational Poems in Hindi for Students


हरियाली ही हरियाली हरियाली हो चारों ओर हरे भरे खेतों में फूलों की अपनी शान है ,
दृश्य हो ये अद्भुत नजारा पहले कभी न देखा इसको हरियाली है हरियाली है ,

नये – नये हैं हरे – हरे हैं , नन्हें छोटे फूल खिले है , फूल खिले है सबसे न्यारे ,
रंग विरंगे है खलिहान धन धान्य से भरे हैं सारे , जगह – जगह में फूल खिले शोभा श्री है ,

ये संसार फूलों की नयी आभा से जीवन का आधार हरियाली पशु – मनुष्य हैं
इससे जीवित कभी कम ना हो ये हरियाली, यही उमंग इसमें बनी रहे यही कामना करता हूं हरियाली है ,


प्यारे बादल – Motivational Poetry in Hindi


मन ही मन इठलाते बादल, रूप अनेक दिखलाते बादल
चारों ओर फैले अंबर पर ,अपनी धूम मचाते बादल

कभी गरजते कभी परसते बिजली भी वमकाते बादल
जल बरसाते , मन हपति , की तपन मिटाते बादल

सरिता निर्झर , तालाबों को जल से भरते जाते बादल
खेतों में अन उगाते बादल ,
धरता खूप सजाते यादल सबको सुखी बनाते बादल ,
हम सब को है भाते बादल


Inspirational Poems in Hindi


समय का मूल्य – प्रेरक कविताएं


बीत रहा है जो क्षागजीवन का नहीं लौटकर आएगा ,
जिसने इसका मूल्य न जाना वह पीछे पछताएगा ।
उतो समय पर खेलो – कूदो पढ़ो लिखो या काम करो ,
जग में रोशन नाम करो  ।

हर काम करना रहदा समय से यक जाओ ,
तो आराम करो आलस में मत पड़े रहो।
तुम जीवन व्यर्यलयोना मेहनत के बल पर हो सकते हो ,
जो कुछ चाहो होला समय बहुत बलवान अमूल्य है ।
जिसने भी इसको जाना है ।

बन बड़ा जिसने हर पल की ताकत को पहचाना है ।
नहीं लौटकर आऐगा जिसने इसका मूल्य न जाना
यह पोले पछताएगा।।


भारत की है भाषा हिंदी

– Motivational Poem in Hindi


सब देशों की अपनी भाषा , भारत की है हिन्दी भाषा ।
भाषायें संविधान में , उनमें हिन्दी पहली भाषा ।।

देश ही नहीं विदेश में भी , है इसका बोल बाला ।
इसकी मिठास से फैला , हिन्दी का चलन निराला ।।

संस्कृत इसकी जननी कहलाती , व्याकरण से इसे सजाती ।
सजी धजी जब बोली जाती , सुन्दर – सुन्दर गीत सुनाती ।।

भाषा है यह संविधान की , करो न तुम इसका अपमान ।
इसके मान , सम्मान से ही , सदा रहगा अपना मान ।


हिन्दी हमको प्यारी है


हिन्दी हमको प्यारी है ।
भाषा ही वह न्यारी है ।।
भाषा है व्यवहार प्यार की ।
बोली सबसे न्यारी है ।।

भारत है इस इस देश का नाम ।
तिरंगा है इस देश की शान ।।
हिन्दी है भाषा का नाम ।
बोली है भाषा की शान ।।

न करो बोली का अपमान ।
हिन्दी है हमारी शान ।।
हिन्दी भाषा है भारत की ।
तभी तो भारत है महान ।।

भारत माता के माथे पर है हिन्दी ।
तभी तो हमारी मातृभाषा है हिन्दी ।।
भारत माता की मांग है सिंदूर ।
अंग्रेजी भाषा करो भारत से दूर ।।

हिन्दी हमको प्यारी है ।
देश की वह न्यारी है ।।
अंग्रेजी को है दूर भगाना ।

हिन्दी को है श्रेष्ठ बनाना ।।
रहे हमारी भाषा का मान ।
हिन्दी है देश की शान ।।


बेटियां ओस की इस बूंद होती है

– Inspirational Poems in Hindi


बेटियां स्पर्श खुरदरा हो तो रोती हैं बेटियां रोशन करेगा बेटा बस एक ही कुल को दो – दो कुलों की लाज होती है
बेटियां कोई नहीं है एक दूजे से कम दोस्तों हीरा अगर है बेटा तो मोती है

बेटियां कांटो की राह खुद ही चलती रहेंगी औरों के लिए फूल बोती है
बेटियां विधि का विधान है यही , यही दुनिया की रस्म मुट्ठी भरे नीर सी होतो है बेटियां।


अबला जीवनMotivational Poems in Hindi


घर आते ही भाग हैं फूटे कहो कौन मेहमान है आया ?
रिश्तों में तकरार हो गई यह सुख में भी दुःख लाया,

मन खट्टा ही पाया दुःखी बेचारी करती थी क्या उसने माँ का प्यार
बस पाया जरा बड़ी जो हुई एक दिन शीघ्र उसे डोली में बिठाया

नाजुक थी वह सहती जाती जल्दी से मायके से भगायो पहुंची
जब ससुराल में थी वह उसका नव जीवन था आया

किंतु मुसीबत टली नहीं थी यहां सासने मुंह बनाया
लाओ सोमा , लाओ चांदी सुन्दर कपड़े ना हो खादी टी.वी. फ्रिज , जेवर

तुम लाओ यह सब ना तो मायके जाओ मायके में तो कम ही दु : ख थे
ससुराल में भी ना था सुख पाया दुःखी अभागन थी वह अबला अंत में

उसने कदम उठाया खत्म करूंगी इस जीवन को जिसने दुर्बल मुझे बताया
धिक्कार ! है इस दुनिया को जिसने नारी पर तरस ना खाया नारी का अपने

इस जग में होता रहता है अपमान जननी , भगिनी।
बेटी है यह इसका सदा करो सम्मान


उलझन

– Motivational Poetry in Hindi


बहुत पहले जब याद आते थे
मुझे गणित के सारे सूत्र
ज्यामिति जब अच्छे से आती थी मुझे
जब शायद सारे रिश्तों की परिधि

दूरी और नजदीकियां अच्छे से निकाल सकता था मैं
कौन से रिश्ते को कहां और किस कोण पे रखना है ,
मुझे तब शायद बेहतर समझ सकता था
मैं उस वक्त तुमने मुझे सिर्फ किताबों में उलझाये

न मैंने कोई रिश्ता जोड़ा , न घटाया
उनको और न ही कोई सूत्र लगाया
उनमें आज जब सालों बाद

मैं सारे सूत्र सारी त्रिकोणमिति ज्यामिति भूलता जा रहा हूँ
तुमने रखकर सारे रिश्ते मेरे सामने
मुझे रिश्तों के गणित में उलझा दिया


जिन्दगी से रू – बरू हूँ।– प्रेरक कविताएं


लोगों को कहते सुना है मैंने ,
जिन्दगी और जवानी मिलती है एक बार ।

फिर क्यों इसे लोग कर देते है बेकार ,
और जवानी धुएं से गुजरी और जिन्दगी आग से ।

जिन्दगी से रू – बरू हूं । को कहते सुना है मैंने ,
जिन्दगी में माँ – बाप मिलते है एक बार ।

क्यों निकाल देते हैं इनको , जिन्दगी से हर बार ।
जिसने दी जिन्दगी जिसने सिखाया हमको चलना

आंधे रास्ते में उनको छोड़ के क्यों चले जाते हैं ।
रु – बरू हूं जिन्दगी में सुख भी है और दुःख भी है ,

लोगों को सुख में हंसते व दुःख में रोते देखा है मैंने ।
मानव तो वही है , जो दुख में भी हंस के जी सके ,
जिन्दगी से रू – बरू हूं ,

आयी तबाही जोर से जब , दुख का सीतम छा गया ।
इस तबाही को देखकर साया भी घबरा गया

इतनी भयावह थी , तबाही की आवाज ।
इस आवाज से रोने वालो की अवाज भी गुम हो जाती थी ,
जिन्दगी से रू – बरु हूँ।।


बच्चों का भविष्य

– Self Motivation Poem Hindi


बच्चों का है पढ़ना काम आगे बढ़ना
आगे जाना ऐसा करना न होगा आसान

ऊंची शिक्षा पार करना जगह – जगह जो है दंगे
न हटना न डरना बच्चों को न दूर पढ़ने जाने देंगे

साथ – साथ में माँ बाप का प्यार जब पढ़ने न जाएंगे
बच्चे उनको न करना तुम इन्कार तो भविष्य में बनेगें

कैसे अच्छे अपनों को तुम खुश रखना
बच्चों का है पढ़ना काम दूसरों को भी खुश करना

ऐसा करना न होगा आसान बच्चों का है पढ़ना काम
जब पढ़ने के जाएंगे बच्चे ऐसा करना न होगा

आसान तभी तो बनेगें बच्चे अच्छे साथ – साथ हैं
टीचर आपके लिखाना पढा़ना उनका काम

जो न आता वो पूछते जाते घर आंगन में कभी
तो करना काम हर प्रश्नों को हल कराते बच्चों को नादान

फोन घर जाकर दोबारा देखते हो जाएगे
वो अपनों से दूर वही शिक्षा दी जाती है

बच्चों का है पढ़ना काम जो भविष्य में काम आती है ।
ऐसा करना न होगा आसान

कभी करने देना उनको मनोरंजन
ज्यादा न देखने देना टेलीविजन उनका भविष्य

उनको करने देना जो मांगे वो
उनको देना उल्टा – सुल्टा न करने देना

धूम्रपान से दूर रखना हर समय में उनका साथ देना
साथियों को अच्छा रखना बच्चों का है पढ़ना काम

ऐसा करना न होगा आसान
सत्य का ही साथ देना माँ – बाप से न झूठ बोलना
अपना भविष्य न पीछे करना


सपनो की जिन्दगी – Hindi Motivational Poems


जिन्दगी नहीं मिलती है दुबारा ,
इस जिन्दगी में करो कुछ काम ।
लिख पढ़ के कुछ करो नाम ,

अपनी जिन्दगी का करो कल्याण
ये जिन्दगी लाती है खुशी ,
जब मनुष्य करें कुछ अच्छा काम ।

मनुष्य ही है इस जीवन का भगवान ,
जब स्वच्छता का रखोगे ध्यान ।
जिन्दगी की तलाश में ,

कितना रोता है ये मनुष्य ।
जब आते जिन्दगी में ,
अच्छे व पूरे काम ।

रात में सोये बिना ,
करता है कुछ काम ।
बचपन से ही होते जिसके सपने ऊंचे ,

वही जिन्दगी में करते अपने सपने पूरे ।
वहीं टहलता रहता है जो छोटे सपने देखता है ,
वही जिन्दगी में फिरता है ।

जिसे न मिला है गुरु का ज्ञान ।।
जब भी जिन्दगी मिलती है ,
आराम से जिया जाता है ।

मगर जब भी कुछ बुरा होता है तो ,
उसे जिन्दगी में रहना पड़ता है ।
जो भी जिन्दगी इस धरती में जीता है ,

उसे कठिन से कठिन परिश्रम करना पड़ता है ।
जब भी जिन्दगी का सपना देखता हूं ,

उस अंधकार के गम पी लेता हूं ।
जिन्दगी का इतना गहरा प्रभाव मुझमें पड़ता है ,
कि जिन्दगी के हर पल के दु : ख भूल जाता हूं ।


ना समझी से धोखा

– Motivational Poem in Hindi


ना समझी से रास्ता भूला ,
आगे चलकर पछताया ।
माँ बाप कहना न माना ,
उन्हें बहुत सताया ।

वक्त गया जब हाथ से फिर
पछताना ठीक नहीं ।
पढ़ना लिखना काम बालकों का
अनपढ़ रहना ठीक नहीं ।

कम्प्यूटर का आया जमाना ,
दिमाग का क्या काम है ।
फिसलने से पहले भाई
जमीन देखने के काम है ।

संभल – संभल पैर बढ़ाओ ,
ना लगे कहीं झटका ।
समय रहते पढ़े नहीं तो फिर
आगे चलकर भटकना ।

मार्ग दर्शक माँ बाप हैं
उनका कहना मानो ।
अगर कहना माना तो आगे
विजय अवश्य जानो ।

विद्या पढ़ ज्ञानी बनो ,
ज्ञान औरों को भी दिया करो ।
अपने स्वकर्म करते जाओ ,

नाम हरि का लिया करो ।
घड़ी पल का वक्त बड़ा है ,
समय व्यर्थ न गंवाओ ।
अच्छी – अच्छी किताबें पढ़ो ,
औरों को भी सुनाओ ।


Motivational Poems in Hindi for Students


सपने को साकार करो

– प्रेरक कविताएं


कब तक तुम सपने देखोगे ।
जागो तनिक विचार करो ।।

स्वप्न देखना बुरा नहीं है ।
किन्तु उसे साकार करो ।।

मिटाना है संसार से नशे को ।
उसके खिलाफ विरोध करो ।।

आयें जो बाधायें पथ पर ।
उनको तुम झकझोर चलो

जो कुछ करने से डरता है ।
उसका होता उत्थान कहाँ ।।

बिना हुए उत्थान किसी को ।
कभी मिला सम्मान कहाँ ।।

करके दृढ़ संकल्प अभी तुमः ।
शुभ पथ पर प्रस्थान करो ।।

बन दिनमान नहीं सकते तो।
जीवन दीप सम्मान करो।।


मोर सभी के मन को भाता

– Motivational Poems in Hindi for Students


सिर पर मनोहर मुकुट लहराया ,
ईश्वर ने क्या खूब बनाया
गहरी नीली रेशम वाली
लंबी कोमल गर्दन प्यारी ।

इसके पंख जगल से न्यारे ,
रंग – बिरंगे चंदा – तारे ।
बागों में यह नाच दिखाता ,
सुंदर पंखों को फैलाता ।

नाच देख हम भी खुश होते ,
आता मजा मोर हम होते ।
हम भी अपना नाच दिखाते ,
बागों में ताजे फल खाते ।
पढ़ने विद्यालय ना जाते,
न बस्तों का बोझ उठाते ।


भ्रष्टाचार के लाल

– Motivational Poetry in Hindi


सफेद कुर्ता , सफेद टोपी उसके गाल लाल
भ्रष्टाचार में लिप्त रहते वो नेता 5 साल
बातें वो करते बड़ी – बड़ी
सड़क बना दी जैसे छडी
वो कचरा वो नालियाँ
मिली वैसी ही सडी

जनता की न सुनी गुजार दिए 5 साल
फिर चुनाव में उठ गये भष्ट्राचार के लाल
धन कमाया इतना कि
सके न उसे संभाल स्विस बैंक में डाल – डाल
फुला लिये अपने गाल

चरमराती अर्थव्यवस्था दे गयी जवाब
वो बने रहे सफेद पोश कालाधन कमाने के बाद
एक समय ऐसा आया
काले धन का मटका फूटा
भ्रष्टाचार का किस्सा छुटा।


तितली का मेला Motivational Poems in Hindi


रेला रे रेला तितली का मेला
लग गया गाँव में धूप में
छौंव में हरी – हरी झाड़ियों

फूलों की क्यारियों
खुशबू की बात है झूमता आकाश है
धरती इठला रही कलियों
शरमा रही कैसा ये खेला रेला रे रेला …


सरस्वती– Hindi Motivational Poems


मंजिल ठहराव नही मंजिल ठहराव नहीं एक पड़ाव है
क्योंकि जिंदगी , कभी धूप कभी छाँव

यात्रा कभी होती नहीं पूरी इच्छा सदा रहती अधूरी
तृप्ति की कामना कराती लक्ष्यों से सामना

वक्त की चाल पे ठिकाना ढूंढ़ता हर कोई
राही राह में बढ़ता आशा लिए

तब जा कर लई सुबह हुई कुछ पल ठहरा
वहां तभी बदलते वक्त की पुकार हुई
बढ़ो आगे अभी बहुत कुछ है यह तो बस शुरूआत हुई ।।


व्यवहार – Short Inspirational Poems in Hindi


आदमी आश्रय देने पर सिर चढ़ जाता है ।
उपदेश देने पर मुड़कर बैठ जाता है ।

आदर देने पर खुशामद समझता है
उपकार करने पर अस्वीकार कर देता है ।

विश्वास करने पर हानि पहुंचाता है
क्षमा करने पर दुर्बल समझता है

प्यार करने पर आघात करता है ।
मित्रता पर विश्वासघात करता है ।

क्या यह चरित्र आदमी का उचित है
मेरा मन कहता है कदापि नहीं

आदमी तो वह होता है जो
सब परिस्थितियों समान व्यवहार करे।।


करो ऐसी दया दाता

– प्रेरक कविताएं


करो ऐसी दया दाता , करो ऐसी दया दाता ।
धर्म की राह पर चले हर एक बसर ,
हर तरफ हो अमन और प्यार ,
करो ऐसी दया दाता , करो ऐसी दया दाता ।

यहाँ है आदमी वहाँ है आदमी ,
फिर भी इंसान की पड़ गई है कमी ,
आसमान रो रहा रो रही है जमी ,
जल रहा है ये सारा संसार ।

करो ऐसी दया दाता , करो ऐसी दया दाता ।।
हर तरफ शोर है ये जो विज्ञान का ,
दाता साधन बना इसको कल्याण का ,
दोनों साधन बने सुख के सामान का ,

फिर जगत का ये होगा उद्धार ।
करो ऐसी दया दाता , करो ऐसी दया दाता ।।
जिन्दगी का एक पहिया विज्ञान का है ,

दूसरा पहिया दाता का ज्ञान है ,
दोनों पहिये मिला के तू रथवान है ,
तेरा होगा बड़ा उपकार ।
करो ऐसी दया दाता , करो ऐसी दया दाता ।।


बड़ा ही महत्व है – Motivational Kavita in Hindi


कविता में अनुप्रास का रोड में कास का
स्कूल में क्लास का बड़ा ही महत्व है
चलने में तीर का , लगने में पीर का
खाने में खीर का बड़ा ही महत्व है ।

चढ़ने में चढ़ाई का पढ़ने में पढ़ाई का
बर्तन में कढ़ाई का बड़ा ही महत्व है ।
किकेट में बॉल का शरीर में खाल का
चलने में चाल का बड़ा ही महत्व है

लड़ाई में जेल का कढ़ाई में तेल का
पढ़ाई में फेल का बड़ा ही महत्व है
गिनती में चार का , नाव में पार का
नदी में धार का बड़ा ही महत्व है ।

विषय में भूगोल का , फुटबॉल में गोल का
झोले में झोल का बड़ा ही महत्व है
चिड़ियों में चूजे का , पूजा में पूजे का
सिलने में सूजे का , बड़ा ही महत्व है ।


छोड़ दो नशा

– Self Motivation Poem Hindi


जिन्दगी को जीना है अगर
तो नशे से रहना तुम दूर
नशा इक ऐसा मीठा जहर है
खुशियों में भी लाता कहर है

नशे में इंसान शैतान बन जाता है
नशे में ही सब कुछ विगड़ जाता है
नशा इक जहरीला साँप है
जिसमें सिर्फ आग ही आग है

ये आदत जिसे भी पड़ जाती
उसको बरबाद कर जाती
नशे को जो भी अपनाये
सुख साथी से दूर हो जाये

वक्त से पहले शमशान पहुंचाता है
नशा अच्छे इंसानों को बुरा बनाता है
नशा सुख से अगर चाहते हो
तुम जीना मेरे भाई अब तुम छोड़ दो नशा


नन्ही सी जान – Motivational Poem in Hindi


उस नन्ही सी जान को क्यों देते हो मार ।
उसे भी जीने का मौका दो एक बार

मत करो भ्रूण हत्या , और करो मत्त इसका अपमान ।
तब जाकर होगा तुम्हारा भी कहीं सम्मान ।।
मत करो भ्रूण हत्या , को उजागर ।
नहीं तो भटकोगे तुम दर – दर ।।

सभी तक पहुँचाओं शिक्षा का प्रसार ।
बालिका ही है गीता , कुरान , बाइबिल का सार ।।

मत करो भ्रूण हत्या एक शिक्षित बालिका ही देश को आगे बढ़ाएगी ।
वही देश के उज्जवल भविष्य को दिखलाएगी ।।

बालिका ही है इस धरती पर एक वरदान ।
बालिका ही है पूरे देश की शान ।।
न हो बालिका तो किससे होगी लड़कों की शादी
बालिका के बिना सबकी होगी केवल बर्बादी ।।


Self Motivation Poem Hindi


क्योंकि वो एक लड़की है – Motivational Poem in Hindi


मनाया गया जश्न उसकी पैदाइश पर ,
शायद इसलिए क्योंकि वो एक लड़की है ।

बजे ढोल , नगाड़े ना ही भोज .
क्योंकि निःसदेह एक लड़की की पैदाइश ।
आज भी भारी पड़ती है माँ – बाप पर ,

यदि मन्नतों व दुआओं के असर पर पैदा होता एक बेटा ।
जो होता कुल का चिराग ,

होते अच्छे भाग ग्रह नक्षत्र विचारने के लिए
होती कुशल पंडित की खोज ढोल नगाड़े

और होता शानदार भोज समाज यही फर्क करता है
लड़के और लडकी में यदि वो करे माँ बाप की सेवा

आजीवन फिर भी वे है पराया धन
क्योंकि वो एक लड़की हैं

यदि बेटा कर दे घर से बेदखल
कुल दीपक के होते हुए चाहे आश्रम के अंधियारों में

काटने पड़े जिंदगी के अंतिम पल
फिर भी वही क्यों तारनहार क्यों होती
उसके ही हाथों अंतिम नैया पार ?


बिटिया की चाह

– Motivational Poetry in Hindi


विटिया बोली बड़े गर्व से
माता मुझको पढ़ना है
भेद – भाव क्या दिखा रही हो
मुझको आज समझना है

भैय्या को तो खिला – पिला कर
विद्यालय पहुँचाती हो

मुझको ना पढ़ने को कहती
घर का काम कराती हो

एक बेटी के जीवन से माँ
क्यों करना है धोखा ?
बिटिया की चाह शादी
कैसे वह निर्वाह करेगी
कभी आपने सोचा ?

इन्दिरा गाँधी प्रतिभा पाटिल
भारत की हैं बेटी
देश की रक्षा के खातिर

वो चैन से नहीं बैंठी
माता मुझको आज्ञा दे दो
मैं भी पढ़ने जाऊँगी
पढ़ – लिख करके निश्चित ही माँ
देश का गौरव बढाऊँगी


हिन्दी है सोने का गहना

– प्रेरक कविताएं


भारत की ये शान निराली ,
हिन्दी भाषा सबसे प्यारी ।

जन – जन की ये राज दुलारी ,
हिन्दी भाषा सबसे न्यारी ।।

भारत की वैजन्ती माला ,
कवि जनों में श्रेष्ठ निराला ।

अब हिंदी से प्रेम जगाओ
हिन्दी का है ठाठ निराला ।।

नये राष्ट्र का सपना लेकर ,
कब तक तुम जी पाओगे ।
हिन्दी को अपने जीवन से ,
दूर क्या तुम भगाओगे ।।

अपना सपना अपना होता
अपनी भाषा एक ।

हिन्दी भाषा एक ही है
कहने वाले अनेक ।।

पर अंग्रेजी सब रट डाले ,
हिन्दी भूले जाये ।
समझ न आये पर अंग्रेजी ,
हिन्दी मन को भाये ।।

हिन्दी भाषा गंगा यमुना सी ,
निर्मल धारा है ।
हिन्दी जैसी भाषा नहीं ,
सन्तजनों को तारा है ।।

हिन्दी ही उपवन की शोभा ,
कविजनों ने गाया है ।
हिन्दी है सोने का गहना ,
हिन्दी को ही पाया है ।।


हिन्दी है इस देश की भाषा

– Inspirational Poems in Hindi


हिन्दी है इस देश की भाषा मनोनीत संविधान से
जन मानस का कर्तव्य है यह , बोले इसको शान से ।।

संस्कृत इसकी जननी कहलाती तत्सम तद्भव देशज से मिलकर ,
बनी यह भाषा है राष्ट्र भाषा , राज भाषा और , मातृ भाषा कहलाती है ।।

इन तीनों के मेल जोल से बनी . यह हिन्दी भाषा है
जो अपनी जननी का करे सम्मान , वह न करे अपनी हिन्दी का अपमान ,

देश में नहीं विदेशों में भी . है इसका बोल – बाला , ऐसा व्याकरण शुद्ध ,
सरल जैसा कही नहीं है ऐसी है यह हिन्दी भाषा ।।


पितृ अभिलाषा

– Motivational Poems in Hindi for Students


डॉ . कलाम मानो स्वर्ग से नीचे झाँक रहे हों ,
हमेशा की तरह बस वही एक सवाल ,
‘ हमारा वंश बढ़ाने वाला नाती कहाँ है हमारा ?

गर्व है हमें तुम पर , बढ़ना आगे भी चाहिए
यह सिलसिला तुम भी न होगे जब ,
याद करेगा कौन हमें तब ? रूद्ध कंठ ,
उत्तर देने में विवश ,

मेरे पास कभी न था कोई जवाब ।
जीवन की खोज में सूर्य रोशन करे दिन ,
यूँ ही गुजरता जाए समय आता रहे
अगला दिन माता – पिता को गुहार उनकी आत्मा की आवाज

मजबूर करती हैं मुझे हर वक्त चिंतन के लिए ,
माता – पिता का गर्व और मेरा ये जीवन किसलिए
बड़े से बड़े राजवंश धराशायी हुए इतिहास में ,

सम्राटों की संतानों ने छोड़ दिए सिंहासन इंसान को याद किया जाता है ,
उसके कर्मों से , सुहानी नींद में सपनों की उड़ान भरते हुए ,
सुनता हूँ मैं अक्सर अपने स्नेही पाता – पिता की आवाजें

जैसे पवन को सुंगध बता देवी उसका उद्गम ।
तैर रहे हैं अब एक हवा पर , परेशान करने वाले सपने मेरे ।
इसी हवा में है एक नया पैगाम , अग्नि की ज्वाला चीर कर ,
कर गई आकाश को अपने नामा शक्ति और बल

का यह दर्शन भय से मुक्त जगमगाती सबका जीवन ,
परम्परा की बेडियाँ यूँ ट्टी ज्यों शाख से फल ,
सुहानी नींद और तैरते सपने अब नहीं उठाते पूर्वजों के गर्व की गुहार ।
सुवासित पवन , सुहानी रात चारों और शांति और बिखरी हुई चाँदनी ।

मेरे मन मंदिर में माता – पिता आए मुसकराते चेहरे ,
आँखों में आँसू लिये आशीर्वाद मुझे पूरे मन से दिए ,
नाती के रूप में जब पाई शक्ति की प्रोतक अग्नि ,
उनका नाम आगे बढ़ाने के लिए।।


मेरा सपनाMotivational Poems in Hindi


कुछ सपने है मेरी इन आंखों में ,
उन सपनों को पूरा करना चाहता हूँ दुनिया मे
तो हूँ लेकिन आसमान छूना चाहता हूँ
नफरत की आग है जहाँ आजकल चारों और मैं

सबको प्यार से जीना सिखाना चाहता हूँ
जहाँ आज आपस में लड़ रहे है भाई – भाई मैं
वहाँ शान्ति का पाठ पढ़ाना चाहता हूँ ।।
जहाँ आजकल भी है , भेदभाव का समाज ,

मैं उस समाज से भेदभाव मिटाना चाहता हूँ
है दिल की यही तमन्ना , कुछ नया कर दिखाना चाहता हूँ ।।
माना कि किस्मत ने नहीं दिया अब तक साथ मेरा।

लेकिन फिर भी मैं , अपनी मंजिल पाना चाहता हूँ ।।
दुनिया वाले मेरे सपनों का कितना ही मजाक उड़ा लें .
लेकिन मैं फिर भी उनको सीने से लगाना चाहता हूँ
चाहे मैं रहूँ या ना रहूँ इस दुनिया में ,
लेकिन मैं अपनी यादें इस दुनिया में छोड़ जाना चाहता हूँ


एक सितारा टूट गया– Short Inspirational Poems in Hindi


एक सितारा टूट गया आज समय का पहिया घूमा ,
पीछे सब कुछ छूट गया आज हमारी भारत माँ की ,
आँख का लारा टूट गया ।। उसकी आँखें बन्द हुई तो ,
पलके कई निचोड़ गया । बरसों तक ना भर पाएगा ,

वो खालीपन छोड़ गया ।। बचपन से ही खुली आँख से ,
सपने देखा करता था । नाविक का बेटा हाथों में
सात समन्दर भरता था ।। था बन्दा इस्लाम का लेकिन ,
कभी न ऐंठा करता था । जब जी चाहा सन्तों के चरणों में

बैठा करता था ।। एक हाथ में गीता उसने ,
एक हाथ कुरान रखा । लेकिन इन दोनों से ऊपर ,
पहले हिन्दुस्तान रखा ।। नहीं शरीयत में उलझा वो
अपनी कीमत भोप गया । कलम उठा कर

अग्निपंख से अंतरिक्ष को नाप गया ।। दादी टोपी के लफड़ों में ,
नहीं पड़ा अलमस्त रहा । वो तो केवल मिसाइलों के ,
निर्माणों में व्यस्त रहा ।। मर्द मुजाहिद था असली ,
हर बन्चन उस ने तोड़ा था । अमेरिका को पीछे छोड ,

एटम बम भी उसने फोड़ा था मोमिन का बेटा
भारत की पूरी पहरेदारी था । ओवैसी . दाऊद ,
सौ – सौ अफजल गुरुओं पर भारी था ।। आकर्षक

व्यक्तित्व सरल थे बच्चों के दीवाने थे । इस चाचा के आगे
चाचा नेहरू बहुत पुराने थे ।। माथे पर लटकी जुल्फों ने ,

पावन अर्थ निकाल दिया । यूँ लगता था भारत माँ ने
आँचल सर पर डाल दिया ।। गौरय है तुम पर फक्र लिये हूँ सीने में ।
जीना ता बस जीना है , अब्दुल कलाम सा जीने में ।।
माना कि अब भी भारत में , कायम गजनी बाबर हैं ।
पर पारस ऐसे सपूत पर सौ – सौ हिन्दू न्यौछावर हैं ।।


बच्चों से करते थे प्यार

– Motivational Poetry in Hindi


हमारे राष्ट्रपति थे वैज्ञानिक
भी थे वो होशियार
जन्म हुआ मछुवारे परिवार में
और फिर भी बन गए थे वो राष्ट्रपति

महान वैज्ञानिक बनकर उन्होंने कर लिया
परमाणु मिशाइल का आविष्कार
देश को आगे बढ़ाया था उन्होंने

और आगे बढ़ाने के लिए की थी कोशिशें अपार
आगे चलकर बने थे राष्ट्रपति वैज्ञानिक भी
बने महान ये थे एक नेक और अच्छे इंसान
आओ मिलकर करें इनका आदर सम्मान ।


दिल से तुझे याद करता हूँ – Motivational Kavita in Hindi


दिल से तुझे याद करता हूँ
तुझे याद एक नहीं हजार वार करता हूँ
माप है ही नहीं कितना तुझे याद करता हूँ
तभी तो कलाम व कलाम हर – पल कहता हूँ

बोया था तुमने बीज एकता का ना उगा पाए
लेकिन तुम पेड़ ना समझ पाए तुमहें लोग
एकता का पाठ तुमने पढ़ाया था  विज्ञान को

तुमने दिन का सूरज देश के विकास को
उजाला माना था तुम्हें सर झुका कर सलाम करता हूँ ।
सदा अमर रहे आप यही दुआ करता हूँ ।


मेरी माँ डॉ . कलाम

– प्रेरक कविताएं


मेरी माँ मेरे पास ऐसे आती हो
जैसे स्नेहीपूर्ण दैवी भुजाएँ मुझे याद है
संघर्च के दिन , जब जिंदगी थी एक चुनौती
और कठोर प्रम सूर्योदय से घंटो पहले ,

मीलों चलना मंदिर के निकट संत समान
अध्यापक से पाठ सुनने के लिए फिर
मीलों दूर चलना अरबी के सबक के लिए ,

रेतीली टीलों से होकर रेलवे स्टेशन मार्ग पर जाना ,
समाचार पत्र लेकर नगर में वितरित करना ,
फिर स्कूल जाना । रात के अध्ययन से पूर्व संध्या को

अखबारों के पैसे इकट्ठे करना , छोटे लड़के के वजूद में
समाया हुआ यह दर्द मेरी माँ तुम बदलीं एक पवित्र शक्ति में ।
मेरी माँ तुम पांच समय खुदा के सामने झुकी खुदा की कृपा से

मेरी माँ तुम्हारा पवित्र साया तुम्हारे बच्चे में शक्ति पन समाया ।
समुद्र की लहरें , सुनहरी रेत , तीर्थयात्री की आस्था रामेश्वरम्
मसजिदवाली गली , सब मिलकर हो गए एक तुमने

हमेशा जरूरतमंदों को दियण , उसमें आस्था रखकर तुमने सवा दिया ,
बस दिया मैं दस वर्ष का था तप को यह बात है ।
मुझे वह दिन आज भी याद है , मैं तुम्हारी गोद में सोया था
बड़े भाई और बहनों को इग्या बनकर । पूनम को रात तो

मेरी दुनिया को सिर्फ तुम ही तो समझती थीं ।
आधी रात को जब मेरे कपोलों पर ऑस् गिरे ,
तब में मेरी माँ ने ददं का जाना , मैं यह भांप गया ।

तुम्हारे स्नेही हाथ धीरे – धीरे मिटाते इस दर्द को ,
तुम्हारे प्रेम , परिचयां , विश्वास ने दो शक्ति मुझको
कर सक् निर्भय होकर सामना इस विश्व का
फिर मिलेंगे इस हल के दिन , ओ माँ ।


Motivational Poetry in Hindi


अमर रहें डा ० ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

– Hindi Motivational Poems


देश में इतना करा विकास ।
देश की पूरी कर दी आस ।।

प्रौद्योगिकी को इतना बढ़ा दिया ।
भारत देश को दिया प्यार ।।

सफलता की चोटी पर खडे ।
मिसाइल का आविष्कार किया ।।

राष्ट्रपति बन कर इतना सुधार किया ।
देश में इतना विस्तार किया ।।

ना हिन्दू थे ना थे मुसलमान ।
भारत देश को बनाया महान ।।

उस महान हरती को करें सलाम ।
अमर रहे ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।


दुनियां से जा कर रूठ गया – Motivational Poem in Hindi


भारत माँ के आँगन से एक – वह तारा टूट गया ।
ना था धर्म के विरोध वो , दुनिया से जाकर सठ गया ।।

राष्ट्रपति बना देश का वो , जो था सदका पालन हार ।
नेकी करता सबके लिए , था यो विश्वसनीय संघर्ष हार ।।

विज्ञान से उसे लगाव था , जो लाया विज्ञान के नैन ।
आगे जाकर वह कहलाया , भारत का मिसाइल मैन ।।

अध्यापक बनकर जिसने सींचा . बच्चों का जीवन विकास ।
जिसने था बच्चों को कराया , नेकी और उद्यमिता का आभास ।।

भारत का परोपकार कर अपना रूख वह गोड गया ।
अपना कार्य किया उसने और नतिकता से हमें छोड़ गया ।।

गया अपनी छाप छोड . करता है उसे देश सलाम ।
हर भारतीय की जुबान पर , नाम है उसका ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।


आपको सलाम भेजता हूँ

– Short Inspirational Poems in Hindi


हवाओं के जरिए एक अरमान भेजता हूँ
अरमान सरे आम मेजता हूँ ।।

फुरसत मिले तो कबूल करना कलाम सर ।
हम सभी की तरफ से आपको सलाम भेजता हूँ ।

ऊँचे -2 ख्वाहिश थी उनकी आसमा से ऊँचे अरमान थे
विश्व में अपना नाम कर गए यो भारत माँ की यो सन्तान थे ।

खोज करना उनका पेशा था दिखने के वो शरीफ लगते ।
सादी थी उनकी वेश भूषा राष्ट्रपति रहकर देश का मान बढ़ाया

भारत माँ का पूरे विश्व में नाम कराया , मिसाइल का आविष्कार किया
उन्होंने , इसलिए मिसाइल मैन लोग उन्हें कहते है ।।

बच्चों से बहुत प्रेम करते थे वो यच्चों मन में बड़े – बड़े सपने भरते थे
वो कहते थे कुछ ऐसा काम करो राष्ट्र ही नहीं पूरे विश्व के लिए बढ़ा काम
करो कुछ बड़ा करने तुअ आए हो तुम विश्व के लिए बड़ा काम करो ।।


ऐसे थे वे महान विभूति

– Self Motivation Poem Hindi


ऐसे थे वे महान विभूति जिन्होंने ,
भारत भूमि में जन्म लेकर देश का गौरव बढ़ाया ।

कभी न भूलेंगे हम ऐसे महान विभूति को ,
जिन्होंने हर क्षेत्र में नव युवकों को मार्ग दिखाया ।

गरीबी में भी पलकर अपना भविष्य उज्वल बनाया ,
ऐसे थे वे महान विभूति जो मिसाइल मैन कहलाया ।

देश के लिए कुछ कर गुजरने का ,
जुनून बचपन में उनके सीने में समाया ।।

इनके आदर्शो पर चलकर , भी कुछ करके दिखाए ।
ऐसे थे वे महान विभूति जिनकी मृत्यु पर विश्व सार शोक जताए ।।


हमारे प्यारे अब्दुल कलाम

– Motivational Poems in Hindi for Students


हे अब्दुल कलाम तुम हो महान ।
तुम्हें है हमारा सलाम , फूलों में है आपका नाम ।

तारों में है आपका नाम हे अब्दुल कलाम तुम हो महान ।।
सारे जहाँ में कोई न आपसा , सारे जहाँ से लगाव आपका ।

हम है आपके प्यारे बच्चे , हम है आपके न्यारे बच्चे ।।
इन्हें न भुलना जहाँ वालो,
यह है हमारे प्यारे अब्दुल कलाम इन्हे है हम सबका सलाम ।।


प्रथम रहे हर बार Motivational Poems in Hindi


जन्म से ही देश के प्रति हुआ करते थे देशभक्त ।
देश को बुलदियों पर ले जाने को ,
किए थे इन्होंने अपने इरादे सख्त बहन ने बेचे जेवर गहने ,

इन्होंने बेचे अखबार । हर परीक्षा को उत्तीर्ण किया ,
प्रथम रहे हर बार ।। उच्च शिक्षा हेतु पढ़ने गये विदेश ,
माँ की मृत्यु पर भी न रूके । समय नष्ट नहीं किया ,

दुख के आगे नहीं झुके ।। कील से कुण्डे से . लकड़ी से लोहार से ।
चमगादड़ से प्रेरित होकर , बनाया हवाई जहाज ।।
मिसायल का निर्माण किया और मिसायल मैन कहलाये ।
राष्ट्रपति थे भारत के पर दुनिया में वो छाये ।।


कथा सुनाऊ कलाम की – Motivational Poem in Hindi


में कथा सुनाऊ कलाम की ।
जिसने आभा की थी समर्पण , उस दाता के प्राण की ।।

15 अक्टूबर जन्म हुआ था . एसी लीला न्यारी ।
सभी सुनहरी इच्छायें , अपने मन में मारी ।।

काम का मारा सोच में डूबा ऐसी दया निधान की ।
मैं कथा सुनाऊ कलाम की मै कथा सुनाईका कलाम की ।।

जो तन की चिन्ता ना करता दाता उसे मिल जाता ।
मानव कलाम का जैसा ही सब के मन को भाता है ।।

मेरा जीवन धन्य कर दिया देके दरी महान की ।
कथा सुनाऊ कलाम की में कथा सुनांऊ कलाम की ।।

भारत का शासक होकर जो धन्य उसे कर जाता है ।
श्री राम की तरह वहीं सबके मन को भाता हूँ ।।

सुनलों मेरे प्यारे भाई कथा उसी महान की ।
जिसने आमा की थी समर्पण उस दाता के धाम की ।।


भारत की शान डा. अब्दुल कलाम


समुद्र से भी गहरे थे अब्दुल कलाम ,
लहरों की तरह वेगशील थे अब्दुल कलाम ।
सुनहरी रेत से भी सुनहरे थे अब्दुल कलाम ,
इंसानियत की नींव थे अब्दुल कलाम ।।

दे गये आवाज गम के मारों को ,
मत परेशान करना इन बहारों को ।
इनसे शायद मिले सुरागे – हयात ,
आओ सजदा करें मजारों को ।।

वो खिजा से हैं आज शर्मिदा ,
जिसने रूकवा दिया इन बहारों को ।
वो अकेले चल पडे थे,
हम ढूढ़ते रहे सहारों को।।


विश्व की शान है आप

– Motivational Kavita in Hindi


विश्व की शान है आप ।
देश का अभिमान है आप ।।
कलाम ,आपने ऐसा हदय पाया
खेल – कूद की उम्र में अपने माता – पिता का हाथ बटाया ,

धन्य है वह माता जिसने आपको अपनी कोख में पाला
बड़े होकर आपने ना सिर्फ उन्हें , बल्कि पूरे देश को संभाला ,
विश्व की शान है आप । देश का अभिमान है आप ।।
वैज्ञानिक के रूप में असंभव को , संभव कर दिखलाया

राष्ट्रपति के रूप में देश भर में विकास लाया
मिसाइल का आविष्कार कर , भारत रल का सम्मान पाया ,
अपनी इन गतिविधियों से . देश को नया मुकाम दिलाया ,
विश्व की शान है आप । देश का अभिमान है आप ।।

ना भूले थे . ना भूलेंगे आपके इस एहसान को ,
ये दृढ़ निश्चय कर लिया है हमने , कभी कम ना होने देंगे आपके मान को ,
आपके सपनों को पूरा करेंगे , आपके बताये मार्ग पर चलेंगे ,
बढ़ायेंगे देश की शान को ,
विश्व की शान है आप ।
देश का अभिमान है आप ।।


मेरे देश का उन्हें सलाम

– Inspirational Poems in Hindi


भारत में जन्मे एक वैज्ञानिक महान ।
जिनका नाम था , ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।
याद करेंगे उन्हें वो कल सारे ।
बच्चों के थे कलाम इत्तने प्यारे ।।

मैं उनकी गाऊँ क्या गाथा ।
उनका एक सपना रहा आधा ।।
हमें बनाना होगा उनके लक्ष्य को अपना ।
क्योंकि डा ० अब्दुल कलाम का यही था सपना ।।

सदा रहेंगे याद दिलों में हमारे ।
कलाम थे ही इतने प्यारे ।।
महान थे डा ० ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।
मेरा और मेरे देश का उन्हें सलाम ।।

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम सबके चहेते
ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।
मुस्लिम हिन्दू दोनों के हैं ।।


प्रेरक कविताएं


ए.पी.जे. अब्दुल कलाम

– Hindi Motivational Poems


भारत के प्रथम वैज्ञानिक राष्ट्रपति एपी.जे. अब्दुल कलाम ।
2002 से लेकर 2007 के राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।
मिसाइल का अविष्कार करने वाले ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।
मिसाइल मैन किसका नाम ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।

वैज्ञानिक सन्त कौन ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।
सपना वह नहीं जो आप नींद में देखते है ।।
जो आपको नींद ही नहीं आने देती ।
कहते यह ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ।।


ये जिन्दगी है – Short Inspirational Poems in Hindi


ये है जिन्दगी का सच जो चाहा
कभी पाया नहीं जो पाया
कभी सोचा नहीं जो सोचा
कभी मिला नहीं जो मिला

रास आया नहीं जो खोया
वो याद आता है कि जो पाया
संभाला जाता नहीं क्यों अजीब सी पहेली है
जिन्दगी जिसको कोई सुलझा पाता

नहीं जीवन में कभी समझौता करना पड़े
तो कोई बड़ी बात नहीं है
क्योंकि झुकता वहीं है जिसमें जान होती है ।
अकड तो मुर्दे की पहचान होती है ।

जिन्दगी जीने के दो तरीके होते ह
पहला जो पसंद है उसे हासिल करना सीख लो
दूसरा जो हासिल है उसे पसंद करना सीख लो
जिन्दगी जीना आसान नहीं होता

बिना संघर्ष कोई महान नहीं होता
जब तक ना पड़े हथौड़े की चोट पत्थर भी भगवान नहीं होता
जिन्दगी बहुत कुछ सिखाती है
कभी हंसती है तो कभी रुलाती है

पर जो हर हाल में खुश रहते है
जिन्दगी उनके आगे सर झुकाती है
चेहरे की हंसी से हर नाम चुराओ

बहुत कुछ बोलो पर कुछ ना छुपाओ
खुद न रूटो कभी पर सबको मनाओ
ये जिन्दगी है बस इसे जीते चले जाओ।।


जिन्दगी

– Motivational Poetry in Hindi


कभी जिन्दगी में पीछे मत रहना ।
दुनियों क्या कहती उसकी मत सुनना ।।
करना वही काम जो अच्छा लगे ,
जिन्दगी में मत करना जो अच्छा न लगे ,
जो भी बढ़े बन गये जो महान ।
उन सभी ने किया शिक्षकों का सम्मान ।।

इस जिन्दगी में किसी को मत देखो ,
मगर किसी को कम भी मत समझो ,
जिन्दगी में उभर जाते हैं जो तारे ,
मेहनत व जनून से भरे होते है सारे ,
जिन्दगी में रह जाते है पीछे वे लोग ।
जिन्दगी की लड़ाद हार जाते जो लोग ।।


वक्त नहीं हर खुशी है लोगों के दामन में – Motivational Poem in Hindi


पर एक हैंसी के लिए वक्त नहीं ।
दिन रात दौड़ती दुनियों में ,

रुकने का कोई वक्त नहीं ।
सारे नाम मोबाइल में हैं,

पर दोस्ती के लिए वक्त नहीं ।
गैरों की क्या बात करें ,

जब अपनो के लिए ही वक्त नहीं ।
सारे रिश्तों को मार चुके

पर दफनाने का वक्त नहीं ।
किससे रूठे , किसे मनायें

दो पल का भी वक्त नहीं ।
आँखों में है नींद भरी ,

दिल है गो भरा हुआ ।
कि हर वक्त मरने वालों को ,
जीने के लिए वक्त नहीं।।


पन्द्रह अगस्त

– प्रेरक कविताएं


पन्द्रह अगस्त की हुई तैयारी प्रभात फेरी भी है
जारी तीव्र गति से करो तैयारी नारे भी करने हैं
जारी देश के खातिर लड़ना है झण्डा रोहण भी करना है
देश के खातिर कुछ कर दिखलाएगें ऐसा निर्णय करना है

देश की शान न जाने पाये देश खातिर कुछ कर गुजरना है
देश को आगे ले जायेंगे सुखद नवयुग ले आयेंगे
सफलता के शिखर पर चढ़ जायेंगे
जिस देश का सपना बापू ने देखा ऐसा युग हम ले आयेंगे
ऐसा निर्णय करना होगा बापू के उपदेशों को अपनायेंगे

सिर्फ कहने की बात नहीं है यारो ऐसा ही हम कर दिखलायेंगे
उन वीर जवानों के खातिर हम भारत में रामराज्य लायेंगे
देशद्रोही देश की सीमा पार न कर पाये देश के खातिर बलि – बलि चढ़ जायेंगे

देश पे आँच ना आने देंगे देश की शान न जाने देंगे देश भक्ति के गीत मिलकर गायेंगे
देश अपना सफल बनायेंगे ऐसा हम संकल्प लेंगे देश पर

विपत्ति आ जाए तो अपने प्राणों की बलि दे देंगे
शीश झुकाकर करें नमन इस देश के सभी महानों को
स्वतंत्रता दिवस अमर रहे सलाम उन वीर जवानों को


माटी मेरे देश की

– Motivational Poem in Hindi


महके जैसे केसर चंदन माटी मेरे देश की सौ सौ वंदन है , अभिनंदन माटी मेरे देश की ।
हल की नोकों से खेतों में उगल रही है माटी सोना ।

खुशहाली से जगमग – जगमग घर का है कोना कोना ।।
लिपे पुते आँगन महकाती माटी मेरे देश की इसके मस्तक पर है हिमगिरि चरणों में सागर चंचल ।
झरनों की बजती शहनाई नदियों की बजती पायल ।।

मधुरित सावन फागुन लाती माटी मेरे देश की ।
आओ इसको शीश झुकाएँ पावन माटी है प्यारी ।
जय हो शस्य श्यामला धरती जाऊँ तुम पर बलिहारी ।।
सुबह शाम करते पूजन माटी मेरे देश की ।


तिरंगा इस देश की शान

– Motivational Poem in Hindi


तिरंगा इस देश की शान है
हमारा गौरव हमारा अभिमान है ।
तिरंगा अपना झुक न जाये
इसका रखना मान सम्मान

वीर जवानों की सुना ये गाथा
उनके चरण स्पर्श करो टेको माथा
अब लेनी हमें सौगंध माटी की सुरक्षित ,
रखना गंध तिरंगा इस देश की शान है
हमारा गौरव हमारा अभिमान है


मेरा भारत मेरी आशा

– Motivational Kavita in Hindi


भारत मेरा देश निराला ।
सत्या अहिंसा धर्म वाला ।।
हम सबकी शान है भारत ।
भारतीयों का स्वाभिमान है भारत ।।

मुझको ये प्राणों से प्यारा ।
मैंने इस पर जीवन वारा ।।
कितने लोग कितनी भाषा ।
मेरा भारत , मेरी आशा ।।


हिमालय खड़ा हुआ है – Self Motivation Poem Hindi


ऐ हिमगिरि तू बनकर विशाल जग रक्षक ।
उत्तर में फैला हुआ है , तू भारत का अंगरक्षक ।।

तेरे दम से नदियां सागर तेरे दम से पवन घटा ।
मन भावन काया तेरी उज्जवल धवल छटा ।।

आसमान को छूने वाला, पर्वत शिखर विशाल बना ।
इस दुनिया में ऊंचाई की, सबसे बड़ी मिशाल बना ।।


मेरा भारत महान

– Motivational Poems in Hindi for Students


कितना निराला है मेरा भारत महान ।
सपनों से प्यारा है मेरा भारत महान ।।
शीश जटा में इसकी देखो खड़ा हिमालय हमारा ,
दिल्ली इसका दिल है और काश्मीर इसका सहारा ।
मेरा भारत निराला , मेरा भारत महान ।।

वीर शहीदों ने इसके है अपने तन को मिटाया।
करके खुद कुर्बानी फिर अपने कर्म को निभाया ,
वीरों की बात करें दे देंगे हम बलिदान ।
मेरा भारत निराला , मेरा भारत महान ।।

संकल्प हमने किया है . तुझको झुकने कभी हम न देंगे
अपने तन को मिटाके , तेरी शान बढाते रहेंगे ,
ये आशा है अपनी , मिटने न देंगे तेरा मान ।
कितना निराला है मेरा भारत महान ।

उज्जवल पावन गंगा इसकी प्राचीन गाथा सुनाए ,
सब धर्मों के हम है इन धर्मों को मिलकर मनाए ,
ये दुनिया मान चुकी , ऊँची है तेरी शान ।
कितना निराला है मेरा भारत महन ।।

हम भारत के वासी तुझको भूल न पायेंगे ,
तेरी रक्षा अपने फर्ज को निभाते रहेगे ,
तेरी लिए देश मेरे दे देंगे अपनी जान ।
मेरा भारत महान , मेरा भारत महान ।।


Motivational Poems in Hindi


तिरंगा Motivational Poems in Hindi


तीन रंगों से बना तिरंगा ।
देशभक्ति से बना तिरंगा ।।
हरा रंग हरियाली का ।
सफेद शान्ति खुशहाली का ।।

केसरिया शौर्य की गाथा गाता ।
चक समय का चलता जाता ।।
वीरों के मन बसा तिरंगा ।
प्यारे रंगों से सजा तिरंगा ।।


माँ माँ का आश्रय जिसने पाया

– Short Inspirational Poems in Hindi


सिर पर जिसके माँ का साया ।
खुश है यो हर पल इस जग में ,
जीवन उसका सदा मुस्काया ।।

माँ का साया जिस पर में होता ,
जीवन सुखी उसका न होता ।
जिन – जिन की मौयें नहीं होती .
आँखें उनकी हर पल रोती ।।

मों का न होना दुख बड़ा है ,
जग में माँ का प्यार सबसे बड़ा है ।
माँ की ममता सा इस जग में ,
नहीं है कोई तारनहार ।।
प्यारी प्यारी माँ हमारी सबसे प्यारी सबसे न्यारी ।


प्यारी – प्यारी माँ हमारी

– Motivational Poem in Hindi


लगती है अच्छी हमको ।
मुश्किलों में भी पालती हमको ।।
बहुत बड़भागी है हम
माँ मिली जिसको प्यारी – प्यारी ।।

नौ महिने पेट में रखकर ।
कितना काट सहती माँ हमारी ।।

लोग कहते है कि भगवान नहीं दिखता ।
पर माँ तुझमें वह मुझको दिखता ।।
तेरा स्थान सबसे पहले भी ।
तुझको प्रणाम सबसे पहले भी ।


दुनिया की सच्चाई – Motivational Kavita in Hindi


माँ का प्यार बहुत ही निराला है ,
माँ ने लाड दुलार से पाला है ।
माँ की राह में चलते रहेगे हम बता देंगे
दुनिया को हम किसी ने नहीं कम ।

नौ महीने गर्भ में पाला हमें , दूध पिलाया आज तक ।
खुद दर्द सहा पर हमें हँसाया आज तक ।
बच्चे की जुबान पर पहला शब्द माँ है ,
जिसमें पूरा जता हमारा समा है ।

कभी डॉटती , कभी मारती है मां
हमारे भविष्य का मूल सारती है माँ
मां को हमें सम्मान देना है .
क्योंकि मों में हमें वरदान दिया है

लड़ जायेंगे माँ के लिए सबसे जला देंगे
हमने माँ का दूध पिया है
दुनिया की वरदाई माँ दुनिया की अच्छाई
माँ हमारी जुबान पर दुनिया की सच्चाई भी.


माँ है बच्चों की फुलवारी

– Motivational Poetry in Hindi


माँ ने हमको जन्म दिया है ।
पाला पोषा बड़ा किया है ।।
माँ ने हमें सिखाया ज्ञान ।
तभी मिली हमको पहचान ।।

माँ से सजी है पूरी धरा
माँ का हदय है ममता से भरा ।।
माँ कष्टों में खुद है रहती ।
लाड प्यार बस हमको देती ।।

अंधेरे में उजाला दिखाती माँ ।
अच्छा ज्ञान सिखाती मों ।।
ऊँचे – ऊँचे स्वप्न दिखा कर ।
शिखर पार ले जाती माँ ।।

माँ है जग में सबसे प्यारी ।
माँ की पहचान है न्यारी ।।
माँ है सब रिश्तों पर भारी ।
माँ है बच्चों की फुलवारी ।।


मेरी माँ

– Hindi Motivational Poems


समंदर की लहरें , सुनहरी रेत ,अद्धानत तीर्थयात्री . रामेश्वरम् दीप की वह छोटी – दूरी दुनिया ।
सब में तू निहित . सब तुझमें समाहित तेरी बाहों में पला मैं , मेरी कायनात रही तू ।
जब छिड़ा विश्वयुद्ध , छोटा सा मैं जीवन बना था चुनौती ,

जिंदगी अमानल मीलों चलते थे हम पहुँचते किरणों से पहले ।
तेरी ऊंगलियों ने निथारा था दर्द मेरे बालों से और भरी थी मुझमें
अपने विश्वास की शक्ति निर्भय हो जीतने की जिया मैं . मेरी माँ ।


माँ की अहमियत – प्रेरक कविताएं


माँ है तो जान है ।
क्योकि माँ ही तो जहान है ।।
माँ से तो सबकुछ है ,
माँ नहीं तो न कुछ है .

माँ ही प्यार का सागर है
ममता से भरी गागर है ,
माँ हैं तो पहचान है ।
क्योंकि माँ ही तो जहान है ।।

हमको खाना खिलाकर
खुद भूखी सो जाती है ,
हमको मखमल में सुलाती है ,
पर खुद की रातें जमीन में गुजर जाती है ,

माँ है तो हम महान है ।
क्योंकि माँ ही तो जहान है ।।
हरदम हमारे बारे में सोचती है ,
हम रोते है तो हमारे आँसू पोछती है ,

हमारे लिए महल बनाकर खुद की ,
जिदंगी खंडहरों पर कट जाती है ,
माँ के बिना तो महल भी वीरान है ।
क्योंकि माँ है तो जहान है ।।


हममें जान बाकी है


एक दिन धराये थी हरी – मरी , हर ओर थी हरियाली ।
चिडिया चहकती थी यहाँ , फुदकती थी डाली – डाली ।।
कभी वो यहाँ बैठती , कभी वहाँ बैठती थी ।

बैलूं अब मैं कहाँ – कहाँ , हर बार सोचती थी ।
यहाँ हर डाल सुन्दर है यहाँ की छांव प्यारी है ।
यहाँ के फूल – फल प्यारे . यहाँ हर चीज न्यारी है ।।

चिडिया ढूढती फिरती , कहाँ मैं आसरा लूं अब ।
यहाँ हर ओर बंजर है न कोई डाल बाकी है ।।
नहीं फूल – फल प्यारे , नहीं वो छांव मिलती है ।

यहाँ गिनती के कुछ ही तो लुटे से पेड़ बाकी है ।।
ओ साथी आज भी इनको , बचा लें अगर मिलजुल कर ।
तभी कह सकेंगे कि हम , हममें जान बाकी है ।।


बर्फ का स्वभाव

– Short Inspirational Poems in Hindi


चुपके से चुपचाप शान्त है उसका स्वभाव ।
चाँद की चाँदनी सा सफेद ,
थोड़ा ठंडा सा भाव बिना गरज बिना बरस आता है .
चुपचाप , सट जाता है सारे शहर में ,

जैसे जंगल में आग नजर आता है
दूध जैसा . औ जल सा साफ ,
सफेद से चमकने लगते पेड ,
पत्ते व घास , शान्त आता है

ना करता कोई शोर ,
जैसे रात की चाँदनी में आया कोई चोर ,
विखर जाता है सफेद , नमक सा चारों ओर ,
चुपचाप आता ना करे कोई शोर ,

चुपके से चुपचाप शान्त है उसका स्वभाव ।
चाँद की चाँदनी सा सफेद , थोड़ा ठंडा सा भाव ।।
कोई शान्त , कोई गुस्सा , कोई परेशान ,
उसकी चमक व ठंड डाल देती सब में जान ,

चुपके आना और सूर्य की किरण के साथ जाना ,
पिघली बूंदों में बदल सबके काम आना ,
उसकी सफेद चमक है उसकी शान ,

डाल दें पर्यावरण में जान ,
उसकी सफेदी है उसकी शान ,
चुपके से चुपचाप शान्त है उसका स्वभाव ।
चाँद की चाँदनी सा सफेद ,
थोड़ा ठंडा सा भाव।।


गुरू ने जो ज्ञान दिया

– Self Motivation Poem Hindi


ज्ञान ही मान है ज्ञान का सम्मान है
अगर यह ज्ञान नहीं मिलता तो
दुनिया को कुछ भी नहीं मिलता ।।

ज्ञान का सम्मान करो तभी आगे बढ़ पाओगे
अगर ज्ञान नहीं होता तो संसार नहीं होता
ज्ञान में छुपा एक रहस्य
जितना बाटो उतना ही बढ़ेगा

बाँटा यदि नहीं ज्ञान तो देश क्या आगे बढ़ेगा
अगर इस दुनिया में ज्ञान नहीं होता न होता
सभ्यता का विकास ज्ञान के अभाव में होता है

सद विचारों का विनाश गुरूओं ने जो दिया ज्ञान
उसका सदा करो सम्मान जो दिखायी
राह उस पर चल कर बढ़ाओ मान


Short Inspirational Poems in Hindi


ये शिक्षक ही हैं

– Motivational Poem in Hindi


ये शिक्षक ही है जो हमें जिन्दगी का सार बताते हैं
जो हमारे जीवन को पार लगाते हैं
जो हमें अच्छा पुरा समझाते हैं
जो हमें सच झूल की पहचान कराते हैं

ये शिक्षक ही है जो आपस में प्रेम करना सिखाते है
जो गैरों के लिए मरना सिखाते है
जो भाई – चारे के साथ रहना सिखाते हैं
जो कठिनाई में भी खुश रहना सिखाते हैं ।

ये शिक्षक ही हैं जो हममें ज्ञान का विस्तार कराते हैं
जो प्राणों में सत्य का संचार कराते हैं
इसलिए हम संपूर्ण जीवन इनको आज्ञाकारी रहेंगे
और इनके प्रति मरते दम तक आभारी रहेंगे


गुरु ने कितना उपकार किया

– Motivational Kavita in Hindi


स्कूल के प्रांगण में आकर अपने ज्ञानी गुरु को पाकर ।
रंगों ने मुझे संवार दिया । गुरू ने कितना उपकार किया ।।

मैं पुष्प अविकसित था . अपनी सुगन्ध का नहीं बोध भर कर
मुझमें चेतना नई . शुभ कर्मो का आधार दिया ।।

हे ! युग परिवर्तन के नायक . जीवन मूल्यों के परिचायक ।
जग को अमूल्य उपहार दिया , गुरू ने कितना उपकार किया ।।


में एक लड़की Motivational Poems in Hindi


मैं एक लड़की , मैं गर्व से कहती हूं कि मैं एक लड़की हूँ
वह लड़की , जिसने माँ बनकर ममता बांटी बेटी बनकर
सेवा की बहन बनकर प्यार बांटा तो कभी साथी बनकर
साथ निभाया समाज को मैंने सर्वोपरि माना ।

लोग कहते हैं कि बेटा कुल का चिराग है ,
पर मैंने तो दिया बनकर दो कुलों को रोशन किया ।
मैंने कभी मदर टेरेसा बनकर देश सेवा की , तो कभी ,
खेलों में देश का नाम रोशन किया ।
हाँ मैं वही लड़की हूँ ।

जिसे तुम घर व समाज की इज्जत कहते हो ,
जिसे तुम दुर्गा के नाम से पूजते हो ।
और कितने – कितने रूप गिनाऊं मैं अपने मैं पर
अब मुझे यह कहने पर डर लगता है ।

यह समाज , जो एक ओर मुझे देवी मानकर पूजता है ,
तो दूसरी और मेरी मासूमियत का गला घोट रहा है ।
चुप रहना और सहते रहना क्या सिर्फ मुझ लड़की के लिए
अब कहने से डरती हूँ कि मैं एक लड़की हूँ
हाँ , मैं एक लड़की हूँ ।


मेरे सपनों का भारत – Motivational Poems in Hindi


क्या बच्चा क्या जवान क्या बूढा
क्या मालिक क्या नौकर क्या किसान
मेरे सपनों के भारत में सब कहेंगे
भारत मेरा महान मेरे देश का हर बच्चा

फूले – फले देश में सबको बराबर का अधिकार
न करें कोई नफरत सब करें प्यार
और एक साथ – साथ कहें
मेरा भारत महान मेरे सपनों का भारत ऐसा हो

जिसमें भेद – भाव न हो जात – पात
न झगड़ा हो बात – बात पर सब मिलकर रहे साथ – साथ
कहें भारत मेरा महान न हो
देश में भ्रष्टाचार न हो स्त्री पर अत्याचार स्त्री –

पुरूष कहें पुकार – पुकार भारत मेरा देश महान
प्रगति की राह पर अटल की चाह पर
हम सब भारतवासी एक साथ चलें
सारे विश्व के कानों में यह बात डाले भारत मेरा देश महान


विद्यार्थी जीवन सुबह से होती है


शुरुआत एक नए दिन को मनाने की फिर आ जाती है
बात मिलकर स्कूल जाने को मिलते हैं सारे दोस्त ,
दिन भर बातें करते हैं । हर कक्षा में मन लगाकर पढ़ते हैं

पढ़कर इच्छा होती है कुछ मिलकर खेलने की मेरी भी तमन्ना है
कुछ आगे बढ़कर बनने की पढ़ – लिखकर जीवन में ,
हम कुछ नया कदम उठायेंगे सपना जो कुछ बनने का है

पूरा उसे कर पायेंगे यही जिंदगी है
विद्यार्थियों की जिसमें हम सब कुछ पाते हैं।।


जब कोई अपने से जुदा होता है

– Inspirational Poems in Hindi


प्यार का नाम न ले प्यार बुरा होता है
प्यार का दर्द जमाने से जुदा होता है
जब कोई अपनों से जुदा होता है ।
पेशक तुम्हारी याद हमें तड़पायेगी ,

जिंदगी में एक कमी सी हो जायेगी
अक्सर उल्फत में यही होता है
जब कोई अपनों से जुदा होता है ।
बिलुड़ के भी वो दिल के पास होंगे

फिर भी जाने क्यों हम उदास होंगे
मर – मर के हिज यार में जीना होता है
जब कोई अपनों से जुदा होता है
मिलेंगे अब हम ख्वाबों में खो जायेंगे

हसीन यादों के चमन में मिलने वालों को एक रोज बिछड़ना होता है ।
जब कोई अपनों से जुदा होता है ।
चोट लगी जब दिल को मैंने यह जाना है ,
मुहब्बत कुछ नहीं सिर्फ एक गम का बहाना है दिल तड़पता है ,

खूने जिगर होता है जब कोई अपनों से जुदा होता है ।
खुश रहो तुम सदा दुआ है मेरी प्यार की खुशबू लुटाते रहो यह दुआ है
मेरी अपने किरदार से कोई रोशन यहाँ होता है
गम न करो , जो भी होता है मंजूरे खुदा होता है ।


जीने की कला

– Motivational Poems in Hindi


बनना है फूल हमको , खिलना है सबके लिए ।
नहीं बनना है स्वार्थी हमको , हंसना है सबके लिए
जीना नहीं है अपने लिए , जोना है किसी के सपने के लिए ।

मरना तो सबको है एक दिन ।। पर मरके भी याद करे ,
हमें वो मिसाल बनना है हमें कली बनकर फिर ,

फूल सा खिलना है । सुकर्मों से यह जीवन मिला है ,
न व्यर्थ बितायेंगे इसको हम ।
क्योंकि जीवन जीना भी एक कला है ।। जीने की कला


सुख – दुख

– Motivational Poem in Hindi


आओ जीना सीखें सुख और दुख दो सखियां हैं जीवन की दो अखियाँ हैं ।
कभी न मिलते एक साथ , पर रहते हैं आस – पास ।।

एक बार मैं सुख से मिली , दुआ सलाम कर आगे बढ़ी ।
फिर मेरा सामना हुआ दुख से , उसे अनदेखा कर मैं चल पड़ी ।

इतने में उसने मुझे टोका , रास्ते में ही मुझे रोका ।
बोली क्यों कतरा रही हो , अनदेखा कर क्यों भाग रही हो ।।

मैं तो हूँ आइना जीवन का , जो दिखाता हूँ हर सत्य जीवन का ।
मुझे एक बार अपनाकर देखो , दुनिया का तब असली रूप देखो ।।

कल तक थे जो तुम्हारे सगे , आज वो तुम्हें पहचान भी न सके ।
सुख में जो तुम्हें देते थे उपहार , आज तुम्हें ही दे रहे दुत्कार ।

अब तो मुझसे आंखे न फेरो , मुझे अपनाकर सबको हेरो ।
कभी न किसी पर निर्भर रहो , हर मुसिबत को हंसे कर सहो ।


आओ जीना सीखें


आओ हम सब जीना सीखें , मिलजुल कर हम रहना सीखें ।
कुछ तुम कह दो अपने मन की , कुछ हम कह दें अपनी ।
सोचे समझें दुनिया भर की , भर ले ताकत इतनी ।

बुरे – भले को आओ परखें , अपने हित को पहचानें ।
हरी – भरी इस धरती माँ की , सुन्दरता को और बढ़ायें ।
समय पर सोना , समय पर जगना , समय बड़ा बलवान है ।

सबको यही सिखाना हम तो , अभी बहुत नादान हैं ।
आओ हम सब जीना सीखें , मिलजुल का हम रहना सीखें ।।


ये कश्मीर हमारा है – Motivational Poetry in Hindi


सुना पाकियो होश में आओ ये कश्मीर हमारा है ।
है माँ का मुकुट भी उतना प्यारा जितना तिरंगा प्यारा है
ये झीलों को सुन्दर नगरी और हिमालय की आभा चमक रहा है
माँ का मस्तक वसुन्धरा पर न्यारा है

स्वर्ण मुकुट माँ के भाल पर स्वच्छ हिमालय चमक रहा
हमें कसम उन वीरों की और कसम निज जननी की
जिनका उबलता रक्त हो हमारी रगों में बहता है

स्वतंत्रता के लिए हमेशा प्राणों का बलिदान करें
सुनो पाकियो होश में आओ ये कश्मीर हमारा है ।


Motivational Kavita in Hindi


भारत देश है वीर जवानों क्या मैं गाथा गाळ आज ,

– प्रेरक कविताएं


अपने वीर जवानों की । मर मिटे जो वतन के खातिर ,
ऐसे वीर महानों की अपनी कुछ ख्वाहिश थी उनकी ,
अपने भी अरमान थे । वतन के खातिर अपनों जां से भी वो अंजान थे ।
खून की नदियां बहा गए वो , आजादी हमको दिला गये वो ।

अपनों की खुशियों के खातिर , मौत को गले लगा गए वो ।।
ऐसा भारत देश हमारा , प्रेम , भाईचारे का परिवेश हमारा ।
अनेक धर्म हैं , अनेक जातियां फिर भी लक्ष्य है एक हमारा ।।
साथ मनाते होली , दीवली , ईद और क्रिसमस सारा ।

शांति , प्रेम , एकत्ता बढ़ाता ऐसौ तिरंगा ध्वज है हमारा ।।
आओ मिलकर कस्में खाएं , तिरंगे को सदा ऊंचा लहरायें
चाहे इसके खातिर कितने वीर पथों पर बलि बलि जाएं ।


वह भारत वर्ष हमारा

– Motivational Poem in Hindi


आजादी का बिगुल बजा जब , चमका गगन मे तारा था ।
हुआ अचम्भित सकल विश्व , वह भारतवर्ष हमारा था ।।
सुनी कहानी आजादी की , हमने अपनी नानी से देश की सत्ता पाई
हमने वीरों की कुर्बानी से देश हो गैरों को मुट्ठी में , हमको नहीं गंवारा था ।

हुआ – अचम्भित सकल विश्व , वह भारतवर्ष हमारा था ।।
बनते ही गणतंत्र देश का विश्व में ऊंचा नाम हुआ छटा अंधेरा ,
निकला सूरज पूरा हर अरमान हुआ ।
शत् – शत् नमन वीरों को जिनके लहू ने इसे संवारा ।
हुआ अचम्भित सकल विश्व , वह भारतवर्ष हमारा था ।


हरियाली की चादर

– Hindi Motivational Poems


कितने सुन्दर , कितने प्यारे , ये वृक्ष हमारी जान है ,
विहग विचरते जिन पर , ईश्वर के ये ऐसे अद्भुत वरदान हैं ,
सदियाँ बीती , आती – जाती ये निज संस्कृति की पहचान हैं ,
अधिक क्या कहें मित्रों , ये निज गौरव और जीवन की शान हैं ,

अन्न , फल – फूल , जल , सब कुछ हैं जो हमको देंते
बदले में हमसे अशुद्ध वायु के सिवा ही क्या हैं लेते ,
कहाँ गई हरियाली , दूर इन खलिहानों से , कहीं खेल न बैठे ,
ये हमारे नव – निहालों से , अंधकार क्यों है ,

जब हम ही निर्माणी स्वजीवन के , अफसोस यही ,
शहरीकरण छीन चुका गुण हमसे सच्चे जीवन के ,
भूल रही गर अब तक , पर भूल न अब हम होने देंगे ,
कर तन – मन – धन अर्पित , अपनी नव पीढ़ी को नींद में

हम न सोने देंगे । आओ हम सब मिल करें पर्यावरण सुरक्षा ,
बचे मांगने से अब जीवन की भिक्षा , विश्वास दिलायें ,
उन्नत व विकसित भारत हम लायेंगे ,
उससे भी पहले माँ को हम , हरियाली की चादर पहनायेंगे


भारत देश हमारा है

– Self Motivation Poem Hindi


भारत देश हमारा है इसके लिए मर मिट जायेंगे फिर भी हार नहीं मानेंगे
भारत देश हमारा है । मर जायेंगे शहीद कहलायेंगे ,
फिर भी सिर न झुकायेंगे , भारत देश हमारा है ।

शहीद उन वीरों की जय – जय कार ,
हर साल देंगे उन्हें श्रद्धांजलि यार भारत देश हमारा है
जब हम रात को सोते घर में ,भारत के वीर लड़ते हैं बॉडर में
भारत देश हमारा है ।


वन प्रकृति

– Motivational Poems in Hindi


वृक्ष तुम्हारी अद्भुत माया , तुम्हीं से चलती है ये काया ।
मीठे – मीठे फल देते हो . राही को मिलतो शोतल छाया ।।
देते हुए अन्न , जल वस्त्र , पंछी को बसेरा , मानव को डेरा ।
वृक्ष न होते अगर धरा पर , पक्षियों का न होता साँझ – सवेरा ।।

वृक्ष तुम हो कितने महान , दूजा नहीं तुम्हारे समाना
खुद कष्टों को झेलकर , प्राणियों को देते जोवनदान ।।
वर्षा , जल और प्राणवायु का बन प्रकृति देती वरदान ।
इनको जीवन रक्षक मानो , करना सीखो इनका सम्मान ।।


धरती पर वृक्ष न होते पर तो ?

– Inspirational Poems in Hindi


वृक्ष न होते दुनिया में तो हरियाली फैलाता कौन
वृक्ष न होते हंसते – हंसते सुन्दर फूल खिलाता कौन
वृक्ष न होते सारे जग में जग में जीवन कैसा होता जन का ,

ऑक्सीजन ना मिलती हमको क्या होता इस जीवन में
वृक्ष न होते आंगन में तो भंवर यूं कैसे मंडराते टिका है
जीवन वृक्षो पर जो , सुख के क्षण ऐसे मिट जाते वृक्ष न होते

धरती पर तो वसुंधरा बंजर हो जाती घासों के मैदान न उगते
जीव जन्तु यूं ही मर जाते इसीलिए ओ मेरे साधी वृक्ष उगाओ ,
वृक्ष बचाओ वृक्षों की रक्षा करके तुम अपना भी अस्तित्व बचाओ ।


प्रदूषण

– Motivational Poems in Hindi for Students


हमको पेड़ लगाना है ,
पर्यावरण प्रदूषण मुक्त बनाना है ।
जब पेड़ लगाये बच्चा – बच्चा , हरियाली छा जायेगी ।

धरती अगर बचानी है तो , जगह – जगह वृक्ष लगाना है ।
ना डालें नदियों में कूड़ा – कचरा इससे साफ रहेगा

पर्यावरण अपना पर्यावरण शुद्ध बनाना है ,
प्रदूषण दूर भगाना है , जन – जन पेड़ लगाये प्रदूषण दूर भगाएं ।


जीवन जीने की कला Motivational Poems in Hindi


अपने से कम जिंदगी में तुम किसी को मत देखो अगर उठना है
ऊपर तुम झुकना सीखो अगर बढ़ना है ,
जिंदगी में आगे तुम्हें तो तुम राह से पत्थर को हटाना सीखो
अगर प्यार चाहिए अपने प्रिय जनों का तो औरो को आदर तुम देना सीखो

अगर हर काम में चाहिए सफलता तुम्हें तो सच्चाई की बात पर तुम चलना सीखो
अगर हर पल रहना है हरि की कृपा में तुम्हें तो हर सांस में तुम उसकी दया देखो
अगर रहना है जिंदगी में खुश तुम्हें तो पहले दूसरों को खुशी देना सोखो
अगर जीतना है जिंदगी में तुम्हें तो हार को गले से लगाना सीखो ।


माँ बिन सूना

– Short Inspirational Poems in Hindi


सब संसार पहली बार अखर रहा है , माँ का घर पर ना होना ।
पहली बार समझ में आया , मां का ऐसे खो जाना अनायास ही खोज रहा हूँ ।
घर का कोना – कोना कैसे मन को समझा अब नहीं है तुमको आना ।
जाने कहां चले जाते हैं , इस दुनिया के लोग , आना – जाना नियम प्रकृति का ।

जो आया है वह जाएगा , फिर भी मन है व्याकुल कोई पता बता दे माँ का . जाकर उसको लाऊँ ।
समझ नहीं पाया . मैं तुमको जब थी मेरे पास तेरे जाते ही मुझको हुआ
एहसास धीरे – धीरे समझ रहा हूँ तेरी सब वो बातें , क्यों काटी थी मेरी खातिर जगकर काली रातें ।

ममता , करूणा , धैर्य , त्याग से भरा है माँ का प्यार
माँ बिन लगता जीवन सूना सूना सब संसार


माँ ओ माँ – Hindi Motivational Poems


दिल से तुझ पर एतबार करती हूँ तुझे एक नहीं हजार बार प्यार करती हैं ।
माप है ही नहीं , जिस प्यार की उससे कई ज्यादा प्यार मैं तुझसे करती हूँ
। तभी सबसे उच्च है तू जो माँ ओ माँ मैं तुझको कहती हूं ….
तू खुदा का दिया वरदान है माँ इसलिए मैं तुझे नमन सर झुका कर करती हूँ

जो न बयां करे मेरे लफज वो मैं आज बयां करती हैं ।
माँ तू ममता का वो छायादार वृक्ष है , जिसमें मैं बैठ सुकून की सांस लेती हूँ ।
तू वो दया की परछाई है , जो अपने आँचल में हर गम से छुपाकर मुझको रखती है ,

जिंदगी की शुरूआत की थी तुझ से आज भी हर शुरूआत तुझसे ही करती हूँ ।
अब तो उस खुदा से भी तेरी अमर जिंदगी की ही मांग में रखती हूँ । इन पंक्तियों में बयां करती हूँ ।
माँ ओ माँ तुझको नमन करती हूँ । तेरे सर्वश्रेष्ठ प्यार के लिए प्यार से तुझको माँ ओ माँ कहती हूं ….
अपना स्नेह तुझको दिल से समर्पण करती हूँ ।
माँ ओ माँ मैं तुझको कहती हूँ ।.


UPSC Motivational Poem in Hindi


वो बचपन का जमाना था

– Motivational Poem in Hindi


एक बचपन का जमाना था , जिसमें खुशियों का खजाना था ।
चाहत चाँद को पाने की थी , पर दिल तितली पर आया था ।
खबर ना थी कुछ सुबह की , ना शाम का ठिकाना था ।
थक कर पर खेलने भी जाना था । माँ की कहानी थी परियों का फसाना था ।

बारिश में कागज की नाव थी , हर मौसम सुहाना था ।
हर खेल में साथी थे , हर रिश्ता निभाना था ।
गम की जुबान न होती थी , न जख्मों का पैमाना था ।

रोने की वजह नहीं थी , ना हंसने का बहाना था ।
क्यों हो गये हम इतने बड़े ,
इससे अच्छा तो वो बचपन का जमाना था ।


इस बच्चे को देखो

– प्रेरक कविताएं


इस बच्चे को दखो . यह ही नवयुग लाएगा
संबंधों में मौन शिखर पर बंद हुए संवाद मौलिकता गुम हुई कहीं ,
अब हावी हैं अनुवाद घुप्प अंधेरे में आशा की किरण जगाएगा
घुटन भरा हर पल लगता ज्यों मुड़ा – तुडा

अखबार अपनों के अपनेपन में भी शामिल है
व्यापार नई तरह से यह उलझी गुत्थी सुलझाएगा सोच नई है ,
दिशा नई है नया – नया उत्साह खोज रहा है
नभ में प्रतिदिन उजले कल की राह यह भविष्य में
एक नया इतिहास बनाएगा !


बाँटें बस उजियारा ,


पीठ पे बस्ता भारी लेकर और आँखों में ख्वाब ,
घर से निकले नन्हे बच्चे लेने कई जवाब ।
छोटे – छोटे कदमों से नापेंगे पूरी दुनिया ,
कोई न होगा पीछे मुन्ना हो या मुनिया ।

अचरज और उत्साह है भीतर चेहरे पर मुसकान ,
चुटकी में ये कर देंगे हर मुश्किल आसान
आसमान का सूरज हैं ये बाँटें बस उजियारा ,
भेदभाव ये नहीं जानते इनका है जग सारा ।


मेरा सपना – UPSC Motivational Poems in Hindi


मरते दम तक कसँगा यही प्रयास ।
मेरे माता – पिता की यही है आस ।
क्या लिखू अब ज्यादा रहने दो कैलाश अभिनेता
मुझे बनने दो करने दो मुझको मेरा काम ।

कैलाश है इसलिए मेरा नाम ।
दिल चीर के देख लो मेरा उसके अन्दर होगा एक हीस ।
झूठी दुनियाँ झूठे लोग और लोर्गो की यह शान ।

लेकिन मुझको तो बनना है महान ।
जिन्दगी में मिलेंगे दोबारा किसी राह में ।
भूलना मत यारो हम भी है अपनों की चाह में ।


विश्व शांति नफरत का नहीं कहाँ ,


ओर – छोर और गगनचुंबी महंगाई
का दौर दिल दहलाने वाली खबरों से भरे
अखबार जेबकतरो से भरे बाजार दिख रहा है हर तरफ ,
नफरत का व्यापार आसमान से आग बरस रही है

और तुम मुस्करा रहे हो लगता है
दीवाने हो पागल हो या किसी
अंतर्राष्ट्रीय साजिश में शामिल हो ,
ज्यादा मत हंसो वरना सत्ता जान जायेगी

इस पर भी कोई टैक्स लगायेगी बोल ही रहा था
मेरा मित्र अपनी बातें विचित्र कि उसका ध्यान
तस्वीर के दूसरे रूप की ओर गया ,
वह हैरानी से घिर गया और गिर गया बेचारा

बेहोश होकर मैंने उसे पानी का छींटा मारा ,
तो होश में आकर उसने पुकारा कमाल है ।
सत्य के इस महासागर में इतना सुन्दर रूप एक – दूजे के
चरणों में झुकते स्वयं से पहले दूजे को खिलाते,
जैसे हो देवदूत हंसते हुए चेहरे निन्दा ,

चुगली के सामने बिल्कुल बहरे यह कैसा अजूबा है
जहाँ आदमी आदमी के प्रेम में डूबा है
चारों तरफ बिखरे – प्यार के रंग आंखों में

आल्हाद दिलों में क्रांति यही तो लानी चाहिए
प्यार की गंगा बहानी चाहिए यह जहां
इक गांव होना चाहिए रूस , चीन , जापान
हमको यूं लगे इस पिता के पुत्र हों
जैसे सगे सुनकर जैसे मित्र की वेदना भाग गयी
और चेतना जाग गई ।

वह बोल उठा एशिया हो या अरब आना
जाना लगे यूं सबको सहज जैसे जाना
एक कमरे से दूसरे कमरे में हो हर तरफ
ऐसी अद्भुत क्रांति और विकसित हो विश्व शांति..


मैं चाहती हूँ कुछ ऐसा है मेरी इन आंखों में उन सपनों को पूरा करना चाहती हूँ

– Motivational Kavita in Hindi


दुनिया में तो हूँ लेकिन आसमा एना चाहती है नफरत की आग है ,
जहाँ आजकल चारों ओर मैं सबको प्यार से जीना सिखाना चाहती हूँ
जहाँ आज आपस में लड़ रहे है भाई – भाई मैं वहां शांति का पाठ पढ़ाना चाहती हूँ
जहां आजकल भी है भेद – भाव का समाज मैं उस समाज से भेदभाव मिटाना चाहती है

है दिल को यही तमन्ना कुछ नया कर दिखा चाहती हैं
माना कि किस्मत में नहीं दिया साथ अब तक मेरा लेकिन फिर भी में अपनो मॉजल पाना चाहती हूँ
दुनिया वाले मेरे सपने का कितना ही मजाक बना लें लेफिन में फिर भी उनको सीने से लगाना चाहती हूँ
चाहे मैं रहूं या न रहूं इस दुनिया में लेकिन मैं अपनी यादें इस दुनिया में छोड़ जाना चाहती हूँ ***


इंसान बनकर देखो

– Self Motivation Poem Hindi


यदि आपको भगवान देखना है तो ईसान बनकर देखो
यदि आपको खुशी देखनी है जो क्रोध त्यागकर देखो
यदि आपको दुख देखना है तो सच्चा जीवन जोकर देखो
यदि आपको सच्चा प्यार देखना है , तो अपनी माँ की ममता देखो

यदि आपको अपना ईमान देखना है तो सिर झुकाकर देखो
यदि आपको कीचड़ की गंदगी देखनी है तो कीचड़ में पत्थर उछाल कर देखो
यदि आपको बुराई देखनी है यदि आपको भविष्य देखना है इंसान बनकर देखो
तो शौतान बनकर देखो तो वर्तमान को दुनिया देखो।


दो अक्टूबर का दिन आया ,


गाँधी जी ने जन्म लिया था ।
भारत – भू को धन्य किया था
मना रहे राम लोग जयन्तो ,
सिन्धु हर्ष का है लहराया दो अक्टूबर का दिन ….
याद पूण्य बापू को करते श्रद्धा – भाव हदय में भरते ।।

उनको कौन भुला सकता है उनका सुयश चतुर्दिक झया ।
दो अक्टूबर का दिन …. उनसे ही स्वतन्त्रता पाई ।
उनकी करते अत : बढ़ाई ।। पाठ अहिंसा – सत्य प्रेम का ,
सदा उन्होंने हमें पढ़ाया । दो अक्टूबर का दिन ……
उनकी शिक्षाएँ अपनायें । हम सदैव उनके गुण गायें ।।

छोड़े नहीं कभी जीवन में , पन्थ उन्होंने जो दिखलाया ।
दो अक्टूबर का दिन ….. बने राष्ट्र उपवन के माली ।
करें सदा उसकी रखवाली ।। आजादी की करें सुरक्षा ,
यही महात्मा ने सिखलाया । दो अक्टूबर का दिन ….


हिन्दी है हमारी जान


अलग – अलग देशों में अपनी – अपनी भाषा है
पर हमारे भारत देश की हिन्दी ही एक मातृभाषा है
भारत में यह बोली जाती बस्ती में या गाँव में
इस भाषा की चर्चा होती अमेरिका और ईराक में

भले ही भारत में बोली जाती होंगी भाषाएँ अनेक
लेकिन हम सब भारतवासियों की तो हिन्दी ही है मातृभाषा
एक जैसे बनती सुर से ताल वैसे हिन्दी से हिन्दुस्तान सुर बिगड़ा तो बिगड़ेगी ताल
बिगड़ी हिन्दी तो बिगड़ेगा हमारा हिन्दुस्तान भले ही भारत में लोग बोलते होंगे भाषाएँ सात

पर अपनी हिन्दी भाषा की तो है कुछ और अलग ही बात हम सबको होना चाहिए
अभिमान कि हिन्दी सिर्फ हमारी भाषा है लेकिन लोग समझते है
कि वीरों की इसमें गाथा है हिन्दी से ही हिन्दू है और हिन्दी से ही

हिन्दुस्तान एक यही चीज तो हमारी भारत माता का एकमात्र सम्मान हिन्दी ही शान ,
हिन्दी अभिमान हिन्दी हमारा मान सम्मान हिन्दी है जागीर हमारी हिन्दी है हमारी जान


हिन्दी भाषा सबसे प्यारी

– Hindi Motivational Poems


हिन्दी भाषा सबसे प्यारी भारत को ये शान निराली , हिन्दी भाषा सबसे प्यारी ।
जन – जन की ये राज दुलारी , हिन्दी भाषा सबसे न्यारी ।।
भारत की वैजन्ती माला , कवि जनों में श्रेष्ठ निराला ।
अब हिन्दी से प्रेम जगाओ , हिन्दी का है ठाठ निराला ।।
संस्कृत इसकी जननी कहलाती । तत्सम् तद्भव देशज से मिलकर ।।

राष्ट्रभाषा राजभाषा और मातृभाषा है कहलाती ।
हिन्दी हम सबकी प्यारी सारा जग है प्रेम पुजारी ।।
जन्म दिया भारत माँ ने इंसान बनाया हिन्दी ने ।
सन् 1947 की यह गाथा सबसे प्यारी हिन्दी भाषा ।।

लड़की के माथे पर है बिन्दी भाषाओ के माथे पर हिन्दी ।
जन अभियान बनाना होगा हिन्दी को अपनाना होगा ।।
हर घर और विद्यालय में इसका झण्डा फहराना होगा ।
हिन्दी भाषा सबसे अच्छी हिन्दी भाषा सबसे सच्ची ।।


Motivational Poem in Hindi


हिन्दी की कुछ अलग शान है


हिन्दी है इस देश की भाषा मनोनीत संविधान से जन – मानस का कर्तव्य है
यह बोलो इसको शान से यह राष्ट्र भाषा है हमारी राजभाषा भी कहलाती है
पूरे विश्व की भाषाओं में से चौथे स्थान पर आती है भारत माँ को इस भूमि पर यह भाषा अभिसारी है
भारत देश के अलावा भी यह 238 देशों को प्यारी है लाखों भाषा है

इस दुनिया में सबकी अपनी आन है समाजव पूरा देश कहता हिन्दी की कुछ अलग शान है ।
वेदों और पुराणों में भी हिन्दी भाषा पहली है महाकाव्य है इसकी रचना , गीतिकाभी सुनहली है ।
हिन्दी भाषा को राष्ट्र का सम्मान मानना बड़े गर्व की बात है

आने वाले समय में यह भाषा अन्य भाषाओं को देने वाली मात है
इस भाषा का उपयोग करे प्यार और सम्मान से जन –
मानस का कर्तव्य है यह बोलो इसको शान से ।।


हिन्दी से है हिन्दुस्तान

– Inspirational Poems in Hindi


हिन्दी हिन्द की आन है गर्व है हमें हिन्दी पर
है भाषा ये सरल बड़ी इसकी अलग पहचान है ।
हिन्दी हिन्द का गहना है इसे सजाएँ और सँवारे ,
दुनियाँ के कोने – कोने में आओं इसे और निखारे ।

हिन्दी से है हम और हिन्दी से है हिन्दुस्तान ,
हिन्दी मेरी हिम्मत है इस पर वारु तन – मन प्राण ।
ज्ञान हो हर भाषा का ये उत्तम बात है ,
पर मातृभाषा को पीछे रखना ये तो विश्वासघात है
हिन्दी वासी हिन्दी अपनायें


हिन्दी हो घर – घर मेंMotivational Poems in Hindi


उन्नत होगा भारत राज जीवन के हर सफर में ।
हिन्दी ही सम्मान है हिन्दी हमारी राष्ट्र भाषा है
आगे इसे बढ़ाना है विश्व में पूरे हिन्दी का भारत की जो पहचान है
परचम हमको लहराना है । हिन्दी उसका नाम है

जो दुनिया में सबसे हिन्दी हमारी मान है भारत का सम्मान है ।
ये माँ के समान है जो न जाने हिन्दी को वो भारत से अनजान है ।
भारत की वो जान है वही हिन्दुस्तान है
पूरे भारत की सीमा में हिन्दी ही सम्मान है ।


सुन लो मेरी पुकार

– Motivational Poem in Hindi


फूलों की तरह खिलना चाहती हूँ
खुशबू की तरह महकना चाहती हूँ
पर क्यों रोक देते हो इस सुवास को ?
तितली सा उड़ना चाहती हूँ

चाहत है चांद तक पहुंचने ,
तारे तोड़ लाने की पर क्यों काट देते हो पंख मेरे ?
उजले दिए जलाना चाहती हूँ
रोशनों की तरह दिखना चाहती हूँ
पर पहले क्यों बुझा देते हो दिये ?


( बेटियाँ )

– Motivational Poetry in Hindi


सामान नहीं सम्मान होतो हैं बेटियाँ ।
माँ – बाप को जान होती है बेटियाँ ।।
बेटा ही नहीं बेटी भी जरूरी है ।
बिन बेटी संसार की यात्रा अधूरी है ।।

संसार बनाने वाला भगवान है ।
संसार को चलाती हैं वेटियाँ ।।
लक्ष्मी ही नहीं दुर्गा भी होती है बेटियाँ ।
सामान नहीं सम्मान होती हैं बेटियाँ ।।
माँ – बाप की जान होती है बेटियाँ ।

बेटों के साथ – साथ चलती हैं बेटियाँ ।।
जिस रूप मे डालो ढलती हैं बेटियाँ ।
ये उनकी कमजोरी नहीं ताकत है ।।

बेटों से अधिक बलवान होती है बेटियाँ ।
ढाल ही नहीं तलवार भी होती हैं बेटियाँ ।।
सामान नहीं सम्मान होती हैं बेटियाँ ।
माँ – बाप को जान होती हैं बेटियाँ ।


समय का मूल्य बीत रहा है – Motivational Poem in Hindi


जो क्षण जीवन का नहीं लौटकर आयेगा
जिसने इसका मूल्य न जाना  वह पीछे पछताएगा
उठो समय पर खेलो – कूदो पदो – लिखो या काम करो
हर काम करना सदा समय सेर थक जाओ तो आराम करो

आलस में मत पड़े रहो तुम जीवन व्यर्थ न खोना
मेहनत के बल पर हो सकते हो जो कुछ चाहो होना
समय बहुत बलवान अमूल्य है जिसने भी इसको जाना है ।
वह आगे बढ़ पाया है उसने नाम कमाना है । * * *


मैं समय हूँ


दिल में जो एहसास जगाये वो आस हूँ मैं ,
प्यासे की जो प्यास बुझाये वो बरसात हूँ मैं ।
पल – पल जो जीना सिखालाये वो सांस हूँ मैं ,
फिर भी कितनों से दूर कितनों के पास हूँ मैं ।

ईश्वर के मंदिर का प्रसाद हूँ मैं ,
सत्य और निष्ठा का सरताज हूँ मैं ।
साहित्य की दुनिया का सरताज हूँ मैं ,
फिर भी कितनो से दूर कितनों के पास हूँ मैं ।

अपनों की जिंदगी में पूर्णमा का चांद हूँ मैं ,
बुराई के लिए अभिषाप हूँ मैं ।
अच्छाइयों का वरदान हूँ मैं ,
जो मेरा मोल समझे उसी के साथ हूँ मैं ।
मैं समय हूँ हर समय तुम्हारे साथ हूँ ।।


मुझे अब भी याद है

– Hindi Motivational Poems


माँ माझे अब भी याद है माँ में भूल नहीं सकता
तेश रातों को मेरे सर को सहलाना
तो कभी तेरा चैठे – बैठे ही सो जाना
कभी मेरी गलतियों पर मुझे मारना

फिर तेरा रूठे प्रेमी को तरह मुझे मनाना
लेग यू कभी मेरा खिलौना बन जाना
हो कभी मेरे साथ अपना बचपन ले जाना
मेरे रोने पर मुझे चुप कराना

और मुझे नींद न आने पर लोरी सुनाना
हर दिन स्कूल जाते मेरा पीछे मुड़ना
और तेरी भरी आंखों में मुस्कराहट आना
मुझे अब भी याद है माँ मैं भूल नहीं सकता

तेरे साथ बिताए हर पहलू को
मैंने सम्भाल कर रखा है ।
मुझे अब भी याद है माँ मेरे मुस्कुराने पर तेरा मुस्कुराना
मेरी खुशी में अपने दुख भूल जाना मुझे अब भी याद है माँ ***


बचपन

– Self Motivation Poem Hindi


बादलों में घर था अपना तारों को बरसात थी ,
जैसे चाँद को शादी चाँदनी के साथ थी
वो दिन खोए हुए थे खुशियों में ,
जमाने की किसको फिकर ।

जब मस्तियाँ जो अपने साथ थी ,
खेल – खिलौने नाचना वो गाना ,
आज समझदारी की इस भीड़ में कहाँ खो गए हैं हम ,
अपनों से दूर कहीं , गुम हो गए हैं हम ।

वो मैदान आज भी वहीं है ,
पर उसमें कदमों के निशा नहीं है ,
इस तरह गायब हुए हैं हम ,
जैसे रेत में एक कंकड कहीं है ।


सबसे अच्छी मेरी माँ सबसे अच्छी सबसे न्यारी

– Motivational Kavita in Hindi


मेरी माँ है सबसे प्यारी ।।
खेल – खिलौने दूध पिलाती . अपनी गोद में मुझे सुलाती ।
मुझे पकड़ने जब कोई आता , तो मैं गोदी में छिप जाता ।
सबसे अच्छी सबसे न्यारी , मेरी माँ है इतनी प्यारी ।

माँ की ममता सबसे सच्ची , माँ की हर बात सबसे अच्छी ।
माँ की ममता एक समान , माँ का हर बच्च है महान ।
सबसे अच्छी सबसे न्यारी , मेरी माँ है सबसे प्यारी ।

माँ का गुस्सा माँ का प्यार , हर बच्चे का है अधिकार ।
मां की गोद में जो सो जाता , उसे न कभी रोना आता ।
सबसे अच्छी सबसे न्यारी , मेरी माँ है इतनी प्यारी ।


Self Motivation Poem Hindi


सपनों की दुनियां

– प्रेरक कविताएं


सपने हम को आते हैं और हमें वह भाते हैं
सपनों की दुनियां हम सभी प्रमाते हैं

अरमानों की दुनियां प्यारी जिसमें हम सब रम जाते हैं
सपनों को है दुनिया न्यारी हम सपनों का संसार बनाते रात में ही सपने हैं आते

लेकिन जब आंखे खुलती हैं सपने जाने कहां हैं जाते ।


माँ ओ माँ

– Short Inspirational Poems in Hindi


दिल से तुझ पर ऐतबार करती हूँ ,
तुझे याद एक नहीं हजार बार करती हूँ ।
भाप है ही नहीं जिस प्यार की ,
उससे कई ज्यादा प्यार माँ तुझ से करती हूँ ।

तभी तो तुझको माँ ओ माँ मैं कहती हूँ ।।
जिंदगी की शुरूआत की थी तुम से ,
दिन की हर शुरूआत करती हूँ तुझ से ।
अब तो उस खुदा से भो .

तेरी अमर जिंदगी की ही मांग में रखती हूँ ।
तभी तो तुझको माँ ओ माँ मैं कहती हूँ ।।
माँ तू ममता का वो छायादार वृक्ष है ,
जिससे मैं बैठे सुकून की आहें भरती हूँ ।

तू वो दुआ की परछाई है ,
जो अपने आंचल में हर गम से
छुपाकर मुझको रखती है ।
तभी सबसे उच्च है तू जो ,
माँ ओ माँ तुझको कहती हूँ ।

तू खुदा का दिया वरदान है माँ इसलिए ,
मैं तुझे नमन सर झुकाकर करतो हूँ ।
जो ना बयां करे मेरे लफ्ज वो मैं आज ,
इन पक्तियों में बयां करती हूँ ,

माँ ओ माँ तुझको मैं नमन करती हूँ ।
तेरे हर सर्वश्रेष्ठ प्यार के लिए प्यार से
तुझको माँ ओ माँ मैं कहती हूँ ।
व अपना स्नेह तुझको दिल से समर्पण करती हूँ ।
माँ ओ माँ मैं तुझको कहती हूँ ।।


अपनी माँ

– Motivational Poems in Hindi for Students


जिस माँ को अभी देखा नहीं सभी मानते हैं ।
जिस माँ ने जन्म दिया क्यों उसको सभी भुलाते है ।
दर्शन करने जगदम्बा के पर्वतों में ठोकरें खाते हैं ,
पर जन्मदायनी माँ के पास नहीं हाथ जोड़ने जाते है ।

जो स्वयं मूक है उसके आगे नये – नये भजन सुनाते है ।
पर जिसने हमको लोरी सुनायी उसको अपशब्द सुनाते है ।
जो पत्थर से बनी है उसके आगे नित्य नये – नये भोग सजाते है ।
जिसने हमको अपने दूध से पाला उसको ही आँसू पिलाते है ।

बिन सोचे इस दुनिया में क्यों सभी नादानी करते है ।
अपनी माँ को सुख दे नहीं सकते जग की जननी को खुश करते है


ममता की मूरत

– Motivational Poem in Hindi


माँ की महिमा क्या बतलाएँ माँ से ही तो संसार है ,
गिनती न हो पाए जिनकी उतने माँ के उपकार हैं ।
बचपन से आज तक पाला , परेशानियों में भी संभाला ,

सदा प्रेरणा बनकर हमको , विजय होना सिखलाया
हमें दिया स्वादिष्ट खाना , खुद ने सूखा खाया
ममता की मूर्ति हर माँ को , मेरा बहुत प्रमाण है
माँ से बढ़कर कोई नहीं है , माँ तो बड़ी महान है।।


माँ बिन सूना सब संसार


पालो बार अखर रहा है , माँ का घर पर न होना ।
पहली बार रामाश में आया . गौ का ऐसे खो जाना ।
अनायास ही खोज रही है । पर का कोना कोना ।
कैसे मन को समझाऊ . अब नहीं है , तुमको आना ।

जाने कहां चले जाते हैं , इस दुनिया के लोग आना – जाना
नियम प्रकृति का क्यों है फिर ये शोक ।
समझ नहीं पायी मैं तुमको जब भी मेरे पास ।
तेरे जाते ही मुझको हुआ तेरा हुआ एहसास .

धीरे – धीरे समझ रही हूँ तेरो बस वो बात ।
क्यों काटी थो मेरी खातिर , जगकर काली रात ।
ममता , करूणा , धैर्य , त्याग से भरा है , माँ का प्यार ।
माँ बिना सूना सब संसार …


माँ का अहसास – Motivational Poems in Hindi


अगर चोट कभी लग जाती , मुझे भी नजर आतो ।
अगर बात कोई हो जाती , मुझे माँ मजर आती ।
मैंने कहा चोट से , तू फिर से आ ।

तू जो आती है तो , माँ की याद आती है ।।
जो मेरे दिल को सुकून दे जाता है दूर रहकर
भी उसकी याद दिलाती है ।। तो बचपन का प्यार ,
माँ के हाथों को मार आज भी है मेरे साथ , मेरी माँ अहसास ।


माँ है बच्चों की फुलवारी


माँ ने हमको जन्म दिया है , पाला पोषा बड़ा किया है ।
माँ ने हमें सिखाया ज्ञान , तभी मिली हमको पहचान ।
माँ से सजी है पूरी धरा , माँ का हृदय है ममता से भरा ।
माँ कष्टो में खुद रहती , लाड़- प्यार बस हमको देती ।

अंधेरे में उजाला दिखाती मी , अच्छा ज्ञान सिखाती माँ
ऊंचे – ऊंचे स्वज दिखाकर शिखर पार ले जाती माँ मी है
जग में सबसे प्यारी , माँ की पहचान है न्यारी ।
माँ है सब सितो पर भारी माँ है बच्ची को फुलवारी ***


वो है माँ जिसने मुझे बनाया ,

– प्रेरक कविताएं


हर दर्द को सहकर इस दुनिया में बुलाया –
वो है माँ जिसने मुझे चलना सिखाया
जिंदगी के हर गम को अपना बनाया –
वों है माँ घूप में खुद जलती रही मगर

आंचल की छांव में जिसे मुझे छिपाया
वो है माँ फिर क्यों इस दुनिया में
माँ की ममता को भूल जाते हैं ।
कामयाची हो माँ का साथ छोड़ जाते हैं

ईश्वर को पूजते हैं मगर ये भूल जाते हैं
कि इस दुनिया में ईश्वर का रूप है
जो वो है माँ जिंदगी के हर गम को अपना बनाया
– वो है माँ हर पल में खुशी देती है

जो अपनी जिंदगी से जीवन देती है
जो वो है माँ भगवान क्या है ?
माँ को पूजा करो क्योंकि भगवान को भी
जन्म देती है जो वो है माँ


माँ – बाप हम कभी ना समझे , पर वो हमें समझाते गये

– Motivational Poems in Hindi


सोचा न कभी उठे पर या हमें जगाते गये हम रोते गये
और वो हमें हंसाना सीखा गये हमने तो बस उन्हें सताया

पर वो हमें चनाते गये जब हम गिरे तो हमें उठाते गये
आसमां में बेफ्रिक उड़ाते गये उड़ना तो हमें उन्होंने ही सिखाया
और आज हम उन्हें भुलाते गये जिन माँ – बाप ने हमें बताया
हम उन्हीं को भुलाते गए हम कभी न समझे पर वो हमें समझाते गए ***

मेरे पापा मेरे पापा ने हमेशा दिया मेरा साथ , सदा थामें रखा मेरा हाथ ,
पापा ने मुझे किसी चीज से न किया इन्कार चाहे रास्ते में मश्किलें आयी हो हजार ,
मेरी हर इच्छा को जिद समझकर माना है । अब मुझे उनका कर्ज चुकाना है ।

मुझ पर किया हैं उन्होंने विश्वास क्योंकि मैं हूँ उनके लिये बहुत खास ।
उन्होंने देखे हैं मेरे लिए जो सपने मैं उन्हें पूरा करुंगी मान कर अपने मेरे
सबसे अच्छे दोस्त मेरे पापा , जिन्होंने सिर्फ मुझे मेरी गलती पर डाँटा ।

मेरे अन्दर हैं उन्हीं के संस्कार उन्होंने सिखाया मुझे करना बडों का सत्कार ।
उन्होंने किया हैं मुझ पर जो भरोसा , इसी भरोसे से काम करूँगी ऐसा ,
जिससे उन्हें हो मुझ पर अभिमान , मैं बढ़ाना चाहती हूँ अपने पापा की शान ।


पुकारता तुम्हें वतन

– Motivational Poetry in Hindi


पुकारता तुम्हें वतन , बांध शोश पे कफन ,
उठो जवान देश के , उठो गुमान देश के खींच लो कृपाण ,
सुप्त म्यान में है जो पड़ी , आज आ गई है मेरे इन्तहान की घड़ी ,
बनो प्रलय की आग बन ऑधियों का राग बन ,

झनझना उठे जो आज , वीरता की लगन , उठो तूफान देश के ,
उठो जवान देश के ।। गरज रहे हैं मेघ आज , फिर से आसमान पर ,
बरस रहे हैं अस्तिखाण्ड , धर्म के जहान पर ,

आज गोलियों की मार चारों और हो रही ।।
देख हिन्दू शूरवीर तेरे ही निशान पर , उठा ले क्रोध की तपन ,
उठो नवल विधान बन , आसमान देश के ,
उठो जवान देश के उठो गुमान देश के ।।


Hindi Motivational Poems


क्रांतिकारियों को नमन – Motivational Kavita in Hindi


चलो मान लिया कि चरखें ने हो उन सारे अंग्रेजों को पटका था ।
पर हमको दे दो वो पावन रस्सो , जिस पर मेरा विस्मल लटका था
भले ही गांधी को धोती . तेरे खातिर गहना था ।
मुझे दिखा दो बस वो फंदा जिसे भगत सिंह ने पहना ।

चलो आजादी के महायुद्ध सारा कार्य तुम्हारा था ।
पर हमें दिला दो वो अंतिम गोली , जिससे शेखर ने खुद को मारा था ।
हम मान रहे कि नेहरू ने ही भारत आजाद कराया था ।

पर हमें सुना दो फिर वो धुन , जिसे राजगुरू ने गाया था ।
बिस्मिल , शेखर , भगत , राजगुरु का बलिदान आनोखा था ।
भारत माँ आजाद हुई . नमन उन्हें भी करना है।


यदि यूं ही योजनाएं बनती रही बच्चों के नाम पर ,

– Self Motivation Poem Hindi


कारखाने चलते रहेंगे बच्चों के काम पर ।
आखिर लोग स्वार्थी क्यों हो गए हैं ,
घोर निंद्रा में क्यों सो गये हैं ।
देखते हैं रोज कि बच्चे काम पर जा रहे हैं .

स्वार्थीपन के कारण वे मस्त हो गा रहे हैं ।
जरा सोचो उन बच्चों के बारे में
जो खेल – पढ़ाई से है बंचित जरा

उनकी खूबी को पहचानो प्रतिभाओं से वे हैं संचित
तो आज शपथ लो कि बालश्रम हटाओगे
इस कुप्रथा को संसार से भगाओगी ।


आजादी के बाद का भारत


आजादी के बाद समस्याओं से घिरा , एक नया भारत देखा ।
जिस घर में भी गया , हर रोज नया महाभारत देखा ।
कहीं बेरोजगारी , कहीं भ्रष्टाचार , कहीं दंगे तो कहीं मारामार ।

कहाँ छेड़छाड़ तो कहाँ अत्याचार , कहाँ ईमान और कहीं देह का व्यापार ।
आज भाईचारे की जगह दंगे हैं , आज भी गरीब घूम रहे नंगे हैं ।

आज इंसान – इंसान के लिए भूखा है , और कहीं बाढ़ तो कहीं सूखा है ।
लोग तो बस चूहे बिल्ली का खेल खेल रहे हैं , अपने अपनों को पैसों से तोल रहे हैं ।

सत्तर बरस बीत गये आजादी के , फिर भी नजदीक जा रहे बर्बादी के ।
इक तरफ तो आदमी चांद पर पहुंच गया है , दूसरी तरफ सड़क पर भूखा सो गया

कोई मंहगे स्कूलों में पढ़ रहे हैं , और कोई कूड़ा बीनकर पल – बढ़ रहे हैं ।
वही अगर आजादी है तो हम गुलाम ही अच्छे थे ,


देश के लिये बस अच्छा देखा

– Motivational Poems in Hindi


भीड़ से अलग देखा मैंने आज क्या गजब देखा ।
जा सोच पाया मैं ऐसा , मैंने कभी न महजब देखा ।।
दीवानगी में अच्छा देखा , देश प्रेम में सच्चा देखा ।

आज ऐसा मैंने चेहरा देखा , जिसमें रंगो का न पहरा देखा ।।
जीर का ऐसा प्रहार देखा , दुश्मनों का संहार देखा ।
ऐसा मैंने एक सच्चा देखा , देश के लिए बस अच्छा देखा ।।


मेरा भारत महानMotivational Poems in Hindi


मेरा भारत देश महान , इसमें जन्में लोग महान ।
जिनके चिन्तन कर्म महान , मेरा प्यारा हिन्दुस्तान
सतयुग में जन्में हरिशचन्द्र . त्रेता में थे आये राम
द्वापर युग में कृष्ण हुए थे , आज मात्र गांधी का नाम ।
सागर इसके चरण हैं घोता , गंगा सहलाती है

शीश हिमालय मुकुट बना है इसका , ऋतुएं देती है आशीष ।
चार आश्रम , छह दर्शन हैं , ज्ञान पुंज है वेद चार ।
महाकाव्यों की अनन्त श्रृंखला , सिखलाती आचार – विचार ।
लाल किला और कुतुबमीनार , ताजमहल यमुना के पार ।
कहलाते भारत की शान , मेरा प्यारा देश महान ।

तिरंगे की शान भारत मेरा मैं भारत का भारत मुझको प्यारा ।
दुनिया के नक्शे पर चमके देखो सबसे न्यारा ।
न्यारा सबसे झण्डा इसका कहा तिरंगा जाता ।

छपा है जिस पर अशोक चक्र जो सबके मन को भाता ।
आओ करे संकल्प सभी और करे सभी ऐलान ।
कुछ भी हो ना जाने देंगे झण्डे हम शान ।।


तीन रंग का झण्डा मेरा

– Inspirational Poems in Hindi


तीन रंग का झण्डा मेरा , लहर – लहर लहराता है ।
मिल – जुलकर रही भाइयों , यही बात बतलाता है ।
एक पिता के हम बच्चे हैं , भाई – भाई का नाता है ।

झण्डा मेरा लहर – लहर कर , यही बात बतलाता है ।
हरा रंग हरियाली का , सफेद शांति खुशहाली का ।
केसरिया शौर्य की गाथा गाता , चक्र समय का चलता जाता ।

तीन रंग का झण्डा मेरा , लहर – लहर लहराता है ।
बोरों के मन वसा तिरंगा , लहर – लहर लहराता है ।


जिन्दगी

– Motivational Poems in Hindi


जिन्दगी ऐसी बना आबाद रहे तू ।
जब जाय इस दुनिया से तो याद रहे तू ।।
मिट्टी के है हम मिट्टी में मिल जाएंगे ।
अच्छे कर्मो से हम सदा याद आऐंगे ।।

लचक नहीं जिन्दगी में जिसके वे टूट जाते है ।
पराये तो क्या वक्त पर अपने भी जाते है ।।
जिन्दगी में शुकता वही है जिसमें जान होती है ।
अकड़ तो मुर्दे की पहचान होती है ।।
लोग उन्ही के गीत पे नाचते हैं ।

जो जलती चिंता में बैठकर गीत गाते हैं ।।
कर्म करो ऐसा पूरी होगी हर मन्नत ।
जिन्दगी ऐसे जियो बन जाएगी जन्नत ।।


मोबाइल एक विचित्र यंत्र है आया ,

– प्रेरक कविताएं


मानव जाति को अद्भुत भाया
वाह मोबाइल क्या किया कमाल ,
आते ही मचाया धमाल बच्चों को भाया
खेलों से , बडौं को गाँव के मेलों से ,

पीढ़ी को लाभ दिया ,
पर दूर किया परिवारों फेसबुक ,
व्हाट्सऐप साथ में लाया
इनसे ही स्मार्ट फोन कहलाया ।

दूरभाष , मनोरंजन का तू है जेबी साधन ,
प्रभावित हुआ है जिससे सारा जन – मन
आज तूने टीवी , रेडियो को भी दी है मात ,
कोई माने ना माने पर तुझमें यारा है कोई बात ।


Conclusion


आज आपने पड़ी Motivational Poems in Hindi. आशा करते हैं। आपको यह Inspirational Poems in Hindi पसंद आयी होंगी, ऐसी ही अन्य रोचक कहानियां और प्रेरक कविताएं पढ़ने के लिए बने रहें , के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.