साधु और चूहे की कहानी हिंदी में | Sadhu aur Chuhe ki Kahani

आज हम पढ़ेंगे साधु और चूहे की कहानी हिंदी में । आशा है आपको आज की हमारी यह कहानी पसन्द आएगी, और Sadhu aur Chuhe ki Kahani से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।


साधु और चूहे की कहानी


साधु और चूहे की कहानी


एक बार की बात है एक मंदिर में एक साधू रहता था। और वहाँ के लोगों की सेवा करता था । दिन भर भिक्षा मांग कर वह जो भी कमाता तो वह मंदिर साफ करने मे उसकी मदद करने वाले व्यक्ति को दान कर देता था। 

उस मंदिर के अंदर एक चूहा भी रहता था । वह चूहा अक्सर उस साधु का रखा हुआ खाना खा जाता था, वह साधु उस चुहे को भगाने की कोशिश करता था।

लेकिन हमेशा साधु को चकमा देकर चूहा भाग जाता था, और कहीं छिप जाता था।

साधु ने उस को बहुत बार पकड़ने की कोशिश की। पर वह बार बार भाग जाता था और साधु चूहे को पकड़ने में असफल हो जाता था । साधु एक दिन अपने एक मित्र के पास गया।

और मित्र को अपनी परेशानी के बारे में जानकारी दी।

उसके मित्र ने उसे एक योजना बताई की चूहे ने मंदिर के अंदर एक बिल बना रखा होगा और वह अपना सारा खाना वहा जमा करता होगा । अगर उसके बिल तक पहुंच कर तुम सारा खाना बाहर निकल दो, तो चूहा कमजोर होकर खुद ही मर जायेगा।

अब साधु ने अपने मित्र की बात मान कर अपने मित्र के साथ जहां तहा बिल खोजना सुरु कर दिया । और कुछ देर तक ढूढने के बाद उनको बिल मिल ही गया। जिसमे चूहे ने खूब सारा कहना छुपाकर रेखा था ।

बिल खोद कर दोनों मित्रो ने सारा खाना निकाल दिया ।

चूहे को खाना नही मिला तो वह कमजोर हो गया और साधु ने अपने मित्र की बात मानते हुए अपनी छड़ी से चूहे पर हमला कर दिया और चूहे को डर कर भागना पड़ा और फिर चूहा खभी मंदिर पर वापिस नही आया ।

सीख | साधु और चूहे की कहानी हिंदी में – इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है कि अपने दुश्मन को हराना है, तो हमे उसकी शक्ति पर हमला करना चाहिए । शक्ति खत्म तो हमारा दुश्मन भी कमजोर हो जाता है।

Also Read : Moral Stories


Conclusion | Sadhu aur Chuhe ki Kahani


आज आपने पढ़ी साधु और चूहे की कहानी हिंदी में । आशा है आपको आज की हमारी यह Sadhu aur Chuhe ki Kahani कहानी पसन्द आयी, अगर आयी तो बताइयेगा कमेंट में। और बने रहिये हमारे साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.