#Top 7 Short Moral stories in Hindi for Class 10 (Hindi Moral Kahaniyan)

यह हैं Top 7 Short Moral stories in Hindi for Class 10. जो मोरल स्टोरीज होने के साथ साथ एंटेरटेनिंग भी हैं,


 Short Moral stories in Hindi for Class 10

जिससे आपको इन स्टोरीज को पढ़कर बहुत कुछ सिखने को तो मिलेगा ही, साथ ही आप खूब एंटरटेन भी होंगे। तो चलिए शुरू करते हैं स्टोरीज-


Short Moral stories in Hindi for Class 10 :


” चालाक लोमड़ी, मूर्ख बकरी “


Moral stories in Hindi for Class 10


एक जंगल मे एक लोमड़ी रहती थी, लोमड़ी बहुत चालाक थी, एक दिन लोमड़ी गाँव मे टहलने निकली।

थोड़ी दूर जाकर उसे प्यास लग गयी, कुछ देर तक चलने के बाद उसे एक कुवां दिखाई दिया। वह उस कुवें में पानी पीने गयी, कुवे के अगले बगल फिसलन भरी काई जमी हुई थी।

फिसलन में लोमड़ी का पैर जाने के कारण वह कुवें में जा गिरी।

कुवां बहुत छोटा था, परन्तु लोमड़ी का उस छोटे कुँए से निकल पाना सम्भव नही था। बहुत देर कुवे में रहने के बाद उसे ऊपर से किसी बकरी की आवाज आने लगी। उसने उस बकरी को अपने पास बुलाया,

और कहा- नमस्ते ! बकरी जी कैसी हैं आप?
तब बकरी ने कहा- अरे मैं तो ठीक हूँ, पर आप वहां नीचे क्या कर रही हैं?

लोमड़ी बोली- मैं तो कुवे का बेहद स्वादिष्ट घास चरने आयी हूँ।
बकरी बोली- क्या सच मे वहां स्वादिष्ट घास लगा है? और आप तो घास खाती ही नही हो।

तब लोमड़ी बोली- अरे बकरी बहन अब क्या करूँ, ऐसी स्वादिष्ट घास पूरे जंगल मे कही नही है। तब मेंने सोचा क्यों न में भी थोड़ी सी घास चर लूँ।

बकरी बोली – तब तो मुझे भी यह घास खानी है, और नीचे कुवें में कूद पड़ी। लोमड़ी को मौका मिलते ही वह बकरी की पीठ पर चढ़कर ऊपर चली गयी।

और मूर्ख बकरी से बोली- अब खाओ पेट भर घास।

Moral stories in Hindi for Class 10 की सीख (Moral) –

1. हर किसी पर आंख बंद करके भरोसा करना उचित नही है।
2. हमेशा बुद्धिमानी से काम लेना चाहिए।


2nd Moral Story :


” मिठुराम की कहानी “


एक तोता था, जिसका नाम था, मिठुराम। वह एक घर के बाहर एक छोटे से पिंजरे में रहता था। वह पिंजरा ही उसका घर था, और वही उसकी छोटी सी दुनिया।

मिठुराम को गाने का बहुत शौक था, और उसकी आवाज भी अत्यंत मीठी थी। जब वह गाता तो अन्य पक्षियां उसकी बहुत तारीफ करते।

पर मिठुराम केवल रात में ही गाता था, उसे दिन में पता नहीं क्या हो जाता था।

एक बार जब रात में वह अपनी मीठी आवाज में गाना गा रहा था। तब वहीं पास में रहने वाला एक चमगादड़ उसके पास उड़ते हुवे आया, और कुछ देर तक उसकी मीठी आवाज सुनने के बाद बोला-

Intrusting part of This Moral story:

आपकी आवाज तो बहुत मीठी और सुरीली है, पर इतनी मीठी आवाज होते हुवे भी आप केवल रात में ही क्यों गाते हो? दिन में क्यों नही गाते?

तब मिठुराम ने वजह स्पष्ट करते हुवे कहा-
एक दिन जब में जंगल मे दिन के समय गाना गा रहा था, तब वही से एक शिकारी आया,और मुझे अपने जाल में फांसकर ले गया, तब से आज तक मे इस पिंजरे में ही कैद हूँ।

और बोला इसलिए मुझे यह समझ आ गया, कि दिन में गाना गाने से में परेशानी में फस सकता हूँ। इसलिए में दिन में कभी नही गाता।

तब चमगादड़ हस्ते हुए बोला, मित्र यह तो तुम्हे पहले सोचना चाहिए था। और हँसता हुवा वहां से चल गया।

Short Story सीख (Moral)-

” दोस्तों हम गलती करके बहुत कुछ सीखते हैं, पर यह जरूरी नहीं है, कि हर बार गलती करके ही सीखा जाए।

कई बार हम किसी की गलती को सीख के रूप में ले सकते हैं, और कई बार कुछ सावधानियों को बरतकर गलती करने से बच सकते हैं। और कहते हैं ना- तब पछतावे होत का, जब चिड़िया चुग गयी खेत। “


3rd Hindi stories with Moral for class 10


” घांस, बकरी, भेड़िया “


एक जंगल मे एक आदमी रहता था, राजू। राजू के पास एक भेड़िया था। वह उस भेड़िये को बहुत अच्छा मानता था। भेड़िया भी राजू को बहुत अच्छा मानता था।

एक दिन राजू अपने साथ भेड़िये को लेकर जंगल घूमने निकला।

थोड़ी दूर जाते ही यमुना नदी या गयी, चूंकि राजू को बार बार यमुना नदी पार करनी पड़ती थी, इसलिए राजू ने यमुना नदी पार करने के लिए नदी के किनारे एक नाव बनाकर खड़ी की थी।

दोनों राजू और भेड़िया नाव में चढ़े और नदी पार करने के बाद नाव को एक खूंटी से बढ़कर जंगल घूमने निकल गए।
थोड़ी देर तक घूमने के बाद दोनों थककर एक जगह बैठ गए।

तब राजू को एक बकरी की आवाज सुनाई दी, और वह बकरी की आवाज सुनकर बकरी को ढूंढने लगा। आखिर राजू को बकरी मिल ही गयी। पर भेड़िया बकरी को देख उसे खाने के लिए दौड़ा,

पर राजू ने भेड़िये को संभाल लिया। बकरी जंगल मे अकेली थी। राजू ने सोचा, शायद यह जंगल मे खो गयी है। अगर मेने इसे यहां छोड़ा, तो इसे कोई जंगली जानवर मार डालेगा।

Best part of this Moral Story in hindi:

राजू ने बकरी को अपने घर ले जाने की सोची। उसने बकरी को खिलाने के लिए एक गट्ठा घास भी काट ली। और तीनों घर के लिए निकल पड़े।

जब नदी आयी, तो उसने सोचा मेरी नाव तो बहुत छोटी है, में केवल अपने साथ एक बार मे तीनो में से एक ही चीज ले जा सकता हूँ।
उसने सोचा, अगर पहले भेड़िये को ले जाऊंगा,

तो सारा घास बकरी अभी ही कहा जाएगी। और घास को ले जाऊंगा, तो भेड़िया , बकरी कहा जाएगा। इस तरह वह सोच में पड़ गया, और आखिर में उसने तरकीब निकाल ही ली।

सबसे पहले वह बकरी को उस पार लेकर गया, ओर से वहां छोड़ दिया।

दूसरे बार वह भेड़िये को उस पर ले गया, और बकरी को अपने साथ ले आया।

और अंत मे घास का ख्याल रखते हुवे वह बकरी, और घास दोनों को इस पर ले आया।

Short Moral stories in Hindi for Class 10 की सीख (Moral) –

” परेशानी चाहे कुछ भी हो, उसका समाधान निकाला जा सकता है। “

Also Read : Best Moral Stories


4th Short stories in Hindi


” रसगुल्ले की जड़ “


एक बार की बात है, श्री लंका से एक श्रीलंकन व्यापारी , महाराज कृष्णदेव से मिलने आया। महाराज ने उनका भव्य स्वागत किया, और अपने महल में  उनके रहने और खाने का उचित प्रबन्ध किया।

एक दिन महल में जश्न मनाया जा रहा था, एक महल का रसोइया, एक खास तरह का रसगुल्ला सबके लिये खाने के लिए लाया। उसने सबको वह रसगुल्ला खिलाया,

पर जब श्रीलंकन व्यापारी को रसगुल्ला दिया गया, तो उसने खाने से मना कर दिया। उसने कहा, मुझे यह रसगुल्ला नहीं खाना! पर अगर इस महल में कोई बुद्धिमान है, तो मुझे यह बता दें, की रसगुल्ले की जड़ क्या है?

राजा भी ऐसा बेतुका सवाल सुनकर परेशानी में पड़ गए। और सोचते रहे कि इसका क्या उत्तर दू?
अन्य मन्त्रीगण तो यही सोचते रह गए, कि इस बेतुके सवाल का मतलब क्या है?

अंत मे राजा ने अपने सबसे बुद्धिमान और खास मंत्री अशोक को बुलवाया।
अशोक , राजा के सामने प्रस्तुत हुवे। राजा ने अशोक से कहा, कि व्यापारी जी का पूछना है, रसगुल्ले की जड़ क्या है?

अशोक ने थोड़ी देर सोचा, और कहा महाराज में इस प्रश का उत्तर कल को दूंगा। और सभा स्थगित कर दी गयी।

Best part of this short stories in hindi for Class 10:

अगले दिन फिर बैठक बुलाई गई, सब लोग उपस्थित हुवे, परन्तु अशोक वहां नही आये। महाराज ने अशोक को बुलवाने का आदेश दिया।

अशोक अपने हाथ मे एक कटोरे में मलमल का कपड़ा ढके हुवे लाते हैं। और उस कटोरे को श्रीलंकन व्यापारी को देते हुवे कहते हैं, यह लीजिए और देखिए रसगुल्ले की जड़।

व्यापारी जब वह कटोरा खोल कटोरे में गन्ने के टुकड़े देखता हैं, तो वह स्तब्ध रह जाता है।

तब सारे मंत्री व राजा अशोक से पूछते हैं, यह क्या है?
तब अशोक बोलते हैं, हर मिठाई चाहे वह रसगुल्ला ही क्यों न हो, सब चीनी से बनते हैं। और चीनी गन्ने से बनती है। इसलिए गन्ना , रसगुल्ले की जड़ है।

यह सुनकर सारे मंत्री और राजा प्रफुल्लित होकर हस पड़ते हैं, और अशोक को शाबाशी देते हैं।

Story in Hindi with moral for Class 10 की सीख (Moral)

” बुद्धिमानी से किसी भी प्रश्न का उत्तर दिया जा सकता है। “


5th Hindi Moral stories for Class 10:


” मूर्ख धोबी, होशियार गधा “


एक छोटे से गांव में एक लालू नाम का धोबी रहता था, वह धोबी प्रतिदिन कपड़े धोकर लोहों के घर पहुँचता, और जो गंदे कपड़े होते थे, उन्हें अपने साथ ले जाता।

लालू के पास एक छोटा गधा भी था। जिसपर वह कपड़े लादकर इधर उधर ले जाया करता था। धोबी थोड़ा गरीब था, इसलिए वह गधे को पेटभर खाना नहीं दे पाता था,

जिस कारण उसका गधा कमजोर हो गया था।

गर्मियों के समय था, लालू को धोए हुवे कपड़ो को देने जाना था, उसने सारे कपड़े गधे के ऊपर लाधे, और चल दिया।

गर्मी बहुत हो रही थी , गधे को गर्मी के कारण हल्का हल्का चक्कर आ रहा था।
अंततः वह एक गड्डे में जा गिरा। गधा बहुत कमजोर था,

पर  उसने ऊपर आने में अपना पूरा जोर लगा दिया, पर वह ऊपर आने में नाकाम रहा, लालू भी मूर्ख किस्म का इंसान था।

उसने अपने गधे को निकालने की खूब कोशिश की, पर उसके हाथ नाकामयाबी ही लगी। अंत मे में वह एक पेड़ के नीचे बैठ गया। औऱ सोच में डूब गया कि गधे को बाहर कैसे निकाला जाए?

Intrusting part of this long moral stories in hindi for class 10:

जब उसको कुछ समझ नही आया, तब उसने सोचा की गधा तो अब ऊपर आ नही सकता, और वह गड्ढे में ही मर जाएगा, में उसके ऊपर अभी से ही मिट्टी फेक देता हूं।

लालू ने एक जगह खोदना शुरू किया, और खूब सारी मिट्टी गधे के ऊपर डाल दी। ओर परेशान होकर घर चला गया।

गधा थोड़ी ही देर में मिट्टी के सहारे से ऊपर की ओर आने लगा, और आखिर में ऊपर पहुच ही गया। और अपने घर चला गया। लालू ने जब सुबह उठकर बाहर देखा,

तो वह हैरान हो गया, और दोनों फिर एकसाथ रहने लगे।

Moral stories for Students of Class 10 की सीख (Moral)-

” हमे हमेशा होशयारी से काम लेना चाहिए, लालू बहुत तरीको से गधे को बाहर निकाल सकता था। पर उसने होशयारी से काम नही लिया, और गधे के ऊपर मिट्टी डालकर चल दिया। “

Also Read : True Friendship Stories


6th Short Moral Story for 10th :


” चालाक लोमड़ी “


एक जंगल मे एक लोमड़ी रहती थी। एक दिन वह बहुत भूकी थी, उसका सारा खाने का सामान खत्म हो गया था।

उसने सोचा उसे खाना ढूंढने जंगल की तरफ जाना चाहिए। और वह खाना ढूंढने जंगल की तरफ चल दी।

बहुत देर तक खाना ढूंढने के बाद भी उसे दूर दूर तक खाना नजर नही आया, आखिर में वह एक पेड़ के निचे जाकर बैठ गयी। औऱ सो गई। सोते हुवे भी उसको सपने में खाना ही नज़र आ रहा था,

वह सपने में देख रही थी, कि उसके सामने बहुत सारे प्रकार का खाना रखा हुवा है, जैसे ही वह उस खाने को खाने लगी , उसकी नींद टूट गयी। उसको अभी भी बहुत भूक लगी थी।

Main seen of this short stories for class 10 students :

थोड़ी देर बाद उसने देखा कि एक कौवा मुह में एक रोटी लिए पेड़ पर बैठा है।

उसने उससे रोटी पाने की एक योजना बनाई, और कौवे के पास गई।

कौवे के पास जाकर कौवे से उसने बोला- कौवे भैया , कैसे हो? मेने सुना है , आप गाना बहुत अच्छा गाते हो।
मुझे भी तो अपनी मधुर आवाज सुनाओ।

कौवा अपनी झूठी प्रशंसा सुनकर बहुत खुश हुआ। और जैसे ही उसने गाना गाने के लिए मुह खोला, उसके मुह से रोटी नीचे गिर गयी।

लोमड़ी नीचे गिरी रोटी पकड़कर तुरत भाग गई। और कौवा  पछताता रह गया।

Class 10th Moral Story की सीख (Moral) –

1. हमे हमेशा बुद्धिमानी से काम लेना चाहिए।
2. हमेशा झूठी प्रशंसा से बचना चाहिए।


7th Moral Story in Hindi:


” लालची कुत्ता “


एक छोटे से गांव में एक लालची कुत्ता रहता था। बहुत कमजोर होने की वजह से कोई उसे पालना नहीं चाहता था। उसे खाने पीने को ढंग से न मिलने की वजह से वह दिन ब दिन और कमजोर होता जा रहा था।

एक दिन वह जब उठा, उसे बहोत भूक लगी थी । वह खाने की तलाश में इधर उधर भटकने लगा, पर उसे खाना कहीं भी नही मिला, अंत मे उसने शहर की तरफ जाने की सोची।

शहर बहोत दूर था, पर चलते चलते आखिरकार वह शहर पहुंचा। थोड़ी देर ही हुई थी, की एक बूढ़ी औरत की उस पतले दुबले कुत्ते पर नज़र पड़ी। वह इधर उधर सूंघ रहा था,

बूढ़ी औरत ने सोचा, शायद इसे भूक लगी है, तभी ये इधर उधर मुँह मार रहा है।

Intrusting part of this hindi moral stories for class 10 :

तब जाकर बूढी औरत ने कुत्ते को एक रोटी दे दी। कुत्ते को रोटी मिलने पर बहुत हर्ष हुवा। और वह वापस जंगल की तरफ चल दिया। जब वह नदी पार कर रहा था, तब उसे उसकी ही परछाही दिखी।

उसने सोचा, यह भी कोई कुत्ता है, जिसके मुँह में एक रोटी है, उसको लालच आ गया, उसने सोचा, क्यों न में इससे ये रोटी छीन लूं। फिर मेरे पास दो रोटी हो जाएंगी। उसने रोटी पाने के लिए नदी में छलांग लगा दी।

और जो रोटी उसके मुह में थी, वह भी नदी के बहाव में बह  गयी। और लालची कुत्ता निराश होकर भूखा ही घर लौट गया।

Class 10 Moral Story सीख (Moral) –

1. लालच करना बुरी बला है।
2. हमेशा कोई भी काम सोच समझकर करने चाहिए।

Also Read : Funny and Moral Stories


Conclusion:


Friends आज हम आपके लिए लाए थे Best 7 Short Moral stories in Hindi for Class 10 with pictures.

जो शायद बेस्ट small Moral Story कलेक्शन था। यह मोरल स्टोरीज तो थी ही, साथ में एंटरटेनिंग भी।

उम्मीद करते हैं , आपको इन Short Hindi Kahaniyon से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा। अगर आप ऐसी ही और स्टोरीज पढ़ना चाहते हैं, तो देखिए हमारी मोरल प्लेलिस्ट को, और शेयर कीजिये अपने रिलेटिव्स को।

thanks .^-^.

Leave a Reply

Your email address will not be published.